पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX60821.62-0.17 %
  • NIFTY18114.9-0.35 %
  • GOLD(MCX 10 GM)476040.47 %
  • SILVER(MCX 1 KG)650340.55 %

गड्‌ढामुक्त होंगी लिंक सड़के:गांवों को शहर से जोड़ती 680 किमी लिंक रोड छह साल बाद बनेंगी, पीडब्ल्यूडी-मंडी बोर्ड ने लगाए टेंडर

लुधियानाएक महीने पहलेलेखक: दिनेश वर्मा
  • कॉपी लिंक

लोक निर्माण विभाग और मंडी बोर्ड की तरफ से गांवों को शहर से जोड़ने वाली जिले की लगभग 680 किलोमीटर लिंक सड़कों के निर्माण और रिपयेरिंग के लिए 80 करोड़ से ज्यादा का एस्टीमेट तैयार करते हुए टेंडर लगाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। विभागीय जानकारी के मुताबिक टेंडर लगाने के उपरांत लिंक सड़कों का निर्माण और रिपेयरिंग का काम अक्तूबर से शुरू होगा और विधानसभा चुनाव से पहले पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। ये वो सड़कें हैं जो साल 2015 के बाद न तो बनी और न ही रिपेयर हो पाई हैं। इसलिए सरकार द्वारा विभागों की इस एक्सरसाइज़ को आगामी विधानसभा चुनावों से जोड़कर देखा जा रहा है।

वहीं, लिंक सड़कों के निर्माण से जिले के ग्रामीण इलाकों को बड़ी राहत मिलेगी, जो पिछले 6 साल से खस्ता हालत सड़कों से जूझ रहे थे। दोनों विभागों को मिलाकर 80 करोड़ से ज्यादा का एस्टीमेट लिंक सड़कों के निर्माण और रिपयेरिंग का बना है। ऐसे में ये सारा पैसा ग्रामीण इलाकों से शहर की तरफ आने वाली लगभग 300 लिंक सड़कों पर खर्च होना है।

सितंबर अंत तक टेंडर प्रक्रिया पूरी होगी। यहां ये भी बता दें कि फेस-4 में 2015 के बाद की लिंक सड़कों का काम पेंडिंग था। ऐसे में सरकार ने अब इनके निर्माण और रिपेयरिंग का प्रोग्राम बनाया है। इस प्रोग्राम के तहत जो सड़कें नई बनी थी और समय से पहले खराब हो गई हैं, उन्हें भी इसमें शामिल किया जा चुका है।

गांव बलोके, जस्सियां, सिधवां बेट, हंबड़ा, पक्खोवाल रोड के साथ लगते ग्रामिण इलाकों, नूरवाला रोड के साथ लगते गांव, चंडीगढ़ रोड के साथ लगते गांव, फिरोजपुर रोड के साथ लगते गांव, जालंधर रोड के साथ लगते गांवों समेत ज्यादातर सभी ग्रामीण इलाकों को जाती लिंक सड़कों की हालत काफी खस्ता है। गड्‌ढों वाली सड़कों के कारण लोगों को पिछले काफी सालों से जूझना पड़ रहा है। जबकि बरसात के दिनों में तो इन सड़कों से वाहनों का गुजरना तक मुश्किल हो जाता है।

पीडब्ल्यूडी के हिस्से वाली लिंक सड़कों को बनाने के लिए टेंडर प्रक्रिया जारी है। इसी महीने के अंत तक ये प्रोसेस पूरा हो जाएगा और उम्मीद है कि अक्तूबर में विभाग सड़क के निर्माण का कार्य शुरू करवा देगा।
-राकेश गर्ग, एसई लोक निर्माण विभाग

लंबे समय के बाद नई सड़क देखने को मिलेगी

जस्सियां निवासी प्रीतम सिंह ने बताया कि उन्हें तो उम्मीद ही नहीं है कि यहां पर दोबारा सड़क बनेगी। अगर सरकार यहां पर सड़क बनाने जा रही है तो बहुत खुशी की बात है। आखिर लंबे समय के बाद उन्हें फिर से नई सड़क देखने को मिलेगी।

गांव बलोके निवासी सोनू कुमार ने बताया कि यहां पर तीन साल पहले सड़क ठीक थी, लेकिन धीरे-धीरे सड़क उखड़ती गई। अब अगर सड़कों का निर्माण किया जाए तो पानी की निकासी का प्रबंध जरूर किया जाए ताकि बारिश में ये टूटने से बचे।

गांव बलोके निवासी सोनू कुमार ने बताया कि यहां पर तीन साल पहले सड़क ठीक थी, लेकिन धीरे-धीरे सड़क उखड़ती गई। अब अगर सड़कों का निर्माण किया जाए तो पानी की निकासी का प्रबंध जरूर किया जाए ताकि बारिश में ये टूटने से बचे।

खबरें और भी हैं...