पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

घोटाले का मामला:सर्वोदया अस्पताल की पार्टनरशिप में घोटाले का मामला, सेशन जज ने बदली डॉ. त्रिवेदी को एंटीसिपेट्री बेल देने वाली कोर्ट

जालंधर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 9 दिसंबर को एडिशनल सेशन जज की कोर्ट में होगी सुनवाई

सेशन जज रुपिंदरजीत चाहल की कोर्ट ने मंगलवार को सर्वोदया अस्पताल की पार्टनरशिप में 4.72 करोड़ रुपए की गड़बड़ी के आरोप में नामजद किए गए न्यूरो सर्जन डॉ. पंकज त्रिवेदी को एंटीसिपेट्री बेल देने वाली एडिशनल सेशन जज मनजिंदर सिंह की कोर्ट बदल दी है। सेशन कोर्ट ने मामला एडिशनल सेशन जज सरबजीत सिंह धालीवाल की कोर्ट को भेज दिया है। उक्त कोर्ट 9 दिसंबर को दोनों पक्ष की दलील सुनने के बाद फैसला सुनाएगी।

बता दें कि शिकायककर्ता ने डिस्ट्रिक्ट सेशन कोर्ट के सुपरडेंट को केस ट्रांसफर करने की दरखास्त सेशन जज के नाम पर दी थी। इस दरखास्त पर सेशन कोर्ट ने संज्ञान लेते हुए मंगलवार को कोर्ट बदल दी है। 26 अक्टूबर को थाना नई बारादरी में सर्वोदया अस्पताल की पार्टनरशिप में पैसे की गड़बड़ी और धोखाधड़ी को लेकर न्यूरो सर्जन डॉ. पंकज त्रिवेदी, नर्स हरजीत कौर रुबी और स्टाफ मेंबर साहिल पर आईपीसी की धारा 406,420,465,467,468,471 और 120 बी के तहत केस दर्ज किया है। मैनेजमेंट का आरोप था कि डॉ. त्रिवेदी ने एक साजिश के तहत मैनेजमेंट के साथ फर्जी रसीद व बिलिंग के जरिए 4 करोड़ 72 लाख रुपए का गबन किया है। मास्टर तारा सिंह नगर में रहते डॉ. कपिल गुप्ता की शिकायत पर यह मामला दर्ज किया गया था। मैनेजमेंट का आरोप था कि डॉ. पंकज ने नर्स और स्टाफ मेंबर के साथ मिलकर यह गड़बड़ी की थी। रुबी विदेश जा चुकी है। डॉ. पंकज ने 16 नवंबर को एडिशनल सेशन जज मनजिंदर सिंह की कोर्ट में एंटीसिपेट्री बेल लगाई थी। कोर्ट से राहत मिलने पर डॉ.त्रिवेदी जांच में शामिल हो गए थे।

खबरें और भी हैं...