पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX56747.14-1.65 %
  • NIFTY16912.25-1.65 %
  • GOLD(MCX 10 GM)476900.69 %
  • SILVER(MCX 1 KG)607550.12 %
  • Business News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • Navjot Sidhu's Attack On The Central Government, NDA Means 'no Data Available'; No Information About Farmers, Laborers And Small Traders, Targeting You And Sukhbir For Agricultural Laws

नवजोत सिद्धू का केंद्र सरकार पर हमला:कहा- NDA मतलब 'नो डाटा अवेलेबल'; उनके पास किसान और मजदूर के बारे में कोई जानकारी नहीं, कृषि कानूनों को लेकर AAP व सुखबीर पर निशाना

जालंधर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पंजाब में कांग्रेस प्रधान बनने के बाद सिद्धू ने पहली बार केंद्र सरकार के खिलाफ बयान दिया है। - Money Bhaskar
पंजाब में कांग्रेस प्रधान बनने के बाद सिद्धू ने पहली बार केंद्र सरकार के खिलाफ बयान दिया है।

पंजाब में कांग्रेस का प्रधान बनने के बाद पहली बार नवजोत सिद्धू ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा है। सिद्धू ने गुरुवार को वीडियो जारी कर कहा कि केंद्र सरकार 2022 तक किसानों का आय दोगुनी करने का वादा किया था। इसके उलटे गन्ने की प्रति क्विंटल कीमत में सिर्फ 1.75% यानी 5 रुपए और गेहूं की MSP में सिर्फ 2% यानी 40 रुपए की बढोतरी की है।

सिद्धू ने कहा कि पिछले एक साल में लागत खर्च कई गुना बढ़ चुका है। इसमें डीजल की कीमत 48%, DAP खाद 140%, सरसों तेल 174%, सनफ्लावर ऑयल 170% और LPG सिलेंडर की कीमत 190 रुपए बढ़ चुकी है। सिद्धू ने NDA सरकार की फुल फॉर्म 'नो डाटा अवेलेबल' बताते हुए कहा कि उनके पास किसानों, मजदूरों व स्मॉल ट्रेडर्स का कोई डाटा नहीं है।

सिर्फ अमीर कॉर्पोरेट मित्रों को जानती हैं केंद्र सरकार
केंद्र सरकार सिर्फ अमीर कॉर्पोरेट मित्रों को जानती है। जिनका कर्जा माफ किया जा रहा है। वही केंद्र सरकार की पॉलिसी बना रहे हैं। तीन कृषि सुधार कानून भी इसी का उदाहरण है। जिससे सिर्फ 0.1% फायदा होगा लेकिन 70% भारतीयों की लूट होगी।

सुखबीर ने आल पार्टी मीट में कृषि कानूनों का समर्थन किया
नवजोत सिद्धू ने कृषि सुधार कानूनों के विरोध में केंद्र सरकार में मंत्री पद छोड़ने व एनडीए से गठजोड़ तोड़ने वाले अकाली दल के प्रधान सुखबीर बादल पर भी निशाना साधा। सिद्धू ने कहा कि कृषि कानूनों को लेकर जून 2020 में हुई आल पार्टी मीटिंग में सुखबीर बादल ने इन कानूनों का समर्थन किया था। प्रकाश सिंह बादल व हरसिमरत बादल ने सितंबर 2020 तक इन कानूनों के समर्थन में वीडिया जारी किए। हालांकि इसके बाद लोगों व किसानों के दबाव में उन्हें यू-टर्न लेना पड़ा।

आम आदमी पार्टी दिल्ली में इसे लागू कर चुकी
आम आदमी पार्टी को लेकर सिद्धू ने कहा कि उनकी दिल्ली सरकार प्राइवेट मंडियों में पहले ही कृषि कानून लागू कर चुकी है। अब वह किसानों के सपोर्ट का झूठा दावा कर रहे हैं।

अभी तक अपनी सरकार को घेर रहे थे सिद्धू
अभी तक नवजोत सिद्धू पंजाब में अपनी ही सरकार को घेर रहे थे। कृषि कानून ही नहीं, नशा, श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी से लेकर कई मुद्दों पर वह मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की आलोचना करते आ रहे थे। हालांकि कुछ दिन पहले दिल्ली से कांग्रेस हाईकमान द्वारा बैरंग लौटाए जाने की चर्चा के बाद सिद्धू के सुर बदले हैं।

खबरें और भी हैं...