पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जालंधर में वाल्मीकि चौक पर धरना:विभिन्न संगठनों ने संयुक्त रूप से किया प्रदर्शन, बोले- 2500-3000 में नहीं होता गुजारा

जालंधरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भगवान वाल्मीकि चौक पर मंहगाई के खिलाफ दिए गए धरने में शामिल आशा वर्कर। - Money Bhaskar
भगवान वाल्मीकि चौक पर मंहगाई के खिलाफ दिए गए धरने में शामिल आशा वर्कर।

विभिन्न कर्मचारी संगठनों के साथ कुछ धार्मिक संगठनों के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने आज संयुक्त रूप से जालंधर के वाल्मीकि चौक को जाम कर दिया। विभिन्न संगठनों का कहना था कि दिन प्रतिदिन महंगाई आसमान छू रही है। घरेलू गैस का सिलेंडर एक हजार रुपए से ऊपर मिल रहा है। भारत में जिस तरह से महंगाई अनियंत्रित होती जा रही है, उससे श्रीलंका जैसा माहौल बनता दिखाई दे रहा है।

कर्मचारी नेताओं ने कहा कि आशा वर्कर से लेकर आंगनवाड़ी वर्कर तक बहुत सारे ऐसे कर्मचारी हैं, जिन्हें मात्र 2500 से लेकर 3000 हजार रुपए वेतन मिलता है। जो नेता और अधिकारी वातानुकूलित कमरों में बैठकर पालिसियां बनाते हैं, वह ढाई से तीन हजार रुपए में गुजारा करके दिखाएं। दिन प्रतिदिन खाने-पीने की चीजों से लेकर डीजल पेट्रोल और गैस के दाम बढ़ते जा रहे हैं।

घरों में रसोई का बजट बिगड़ चुका है। यदि लोग अब नहीं जागे तो फिर बहुत देर हो जाएगी। संयुक्त धरने में नेताओं ने कहा कि केंद्र सरकार के नेता वही हैं, जिन्होंने महंगाई के खिलाफ मोर्चा खोलकर सत्ता हासिल की थी। अब वही लोग सत्ता में बैठकर महंगाई को नियंत्रित नहीं कर पा रहे। अब हम लोग महंगाई के खिलाफ और उनके इतने कम वेतन को लेकर राज्य सरकार और केंद्र सरकार को एक ज्ञापन भी भेजेंगे।