पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बैंक ऑफ बड़ौदा के मैनेजर पर कार्रवाई:मिलीभगत करके भट्ठा मालिकों को करोड़ों का लोन देने वाले को ED ने गिरफ्तार किया

जालंधर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो - Money Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो

पंजाब के फगवाड़ा में 21.19 करोड़ रुपए के 19 लोन ईंट भट्ठा मालिकों को देने वाले बैंक ऑफ बड़ौदा के पूर्व वरिष्ठ प्रबंधक पर प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने शिकंजा कस दिया है। ED ने आरोपी कुलदीप सिंह को गिरफ्तार कर लिया है। इससे पहले प्रवर्तन निदेशलाय की टीम ने धन शोधन मामले में भट्ठा मालिकों विक्रम सेठ औऱ सुरेश सेठ समेत 6 लोगों को गिरफ्तार किया है।

सुरेश सेठ को इस साल फरवरी महीने में गिरफ्तार किया गया था, जबकि विक्रम सेठ को ईडी ने पिछले साल सितंबर महीने में गिरफ्तार किया था। ईडी ने धन शोधन मामले में दोनों भाइयों समेत इनके 14 नजदीकियों और रिश्तेदारों के खिलाफ मोहाली की विशेष अदालत में चार्जशीट दायर कर रखी है।इसी मामले में भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की शिकायत पर प्रवर्तन निदेशालय ने 2017 में मामला दर्ज करके जांच पड़ताल शुरू की थी।

19 लोन लेकर 21.19 करोड़ का फ्रॉड

सेठ और उसके परिवार के सदस्यों व सहयोगियों ने अन्य आरोपियों की मिलीभगत से कथित तौर पर बैंक ऑफ बड़ौदा, फगवाड़ा से 19 ऋण स्वीकृत करवाए थे। लोन लेने से पहले फर्जी कंपनियां और फर्में बनाई गई थीं। इसके बाद पूरा जाल बिछाकर बैंक से धोखाधड़ी की गई। इसमें कुछ बैंक अधिकारी और कर्मचारी भी संलिप्त थे। सभी ने मिलीभगत करके 21.19 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी की और फर्जी फर्मों के खाते खोल कर उनमें लोन का पैसा डलवाया था, जबकि हकीकत में जमीन पर कोई फर्म थी ही नहीं।

ईडी के मुताबिक, सेठ ने सारा पैसा फगवाड़ा व आसपास के क्षेत्रों में 20 आवासीय प्लॉट, 6 औद्योगिक प्लॉट, एक घर, 3 जगह एग्रीकल्चर भूमि, 2 ईंट भट्टों और 18,17,03,627 रुपए मूल्य के 10 कमर्शियल प्लॉट पर लगा दिया। 42 अचल संपत्तियां बंगा (नवांशहर) और हिमाचल प्रदेश के अम्ब (ऊना) में खरीदी थीं। इसके अलावा, 32,97,000 रुपए की 7 चल संपत्तियां टाटा सफारी, होंडा जैज, स्कोडा ऑक्टेविया गाड़ियां भी धोखाधड़ी के पैसे से खरीदीं। ईडी ने पिछले साल 42 अचल संपत्तियां और 18,50,00,627 रुपए की 7 चल संपत्तियां कुर्क की हैं।

CBI और ACB भी कर चुकी मामला दर्ज

विक्रम सेठ और 13 अन्य के खिलाफ 2017 में ईडी ने धन शोधन निवारण अधिनियम, 2002 के तहत मामला दर्ज किया था। इसके बाद CBI, भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (ACB), चंडीगढ़ ने 15 जनवरी, 2015 को 420, 467, 468, 471,120बी, आईपीसी और धारा 13(1)(डी) आर/डब्ल्यू 13(2) के तहत षड्यंत्र रचकर धोखाधड़ी करने, धोखाधड़ी करने के लिए फर्जी दस्तावेज तैयार करना, सरकारी दस्तावेजों से छेड़छाड़ करने का मामला दर्ज किया था।

ईडी ने अपनी जांच में पाया कि विक्रम सेठ ने अपने परिवार के सदस्यों के नाम चल और अचल संपत्तियों में पैसा लगाया था, जिसके स्रोत जांच के दौरान वैध नहीं पाए गए थे। ऋण खातों से पैसा डायवर्ट किया गया और अचल-चल संपत्ति में निवेश किया गया।