पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अतिरिक्त काम से अब हाय तौबा:304 सर्किल बंद फिल्लौर के 95 एरिया प्रभावित, जमीन के वर्क ठप

जालंधर4 महीने पहलेलेखक: प्रभमीत सिंह
  • कॉपी लिंक
जिला प्रशासनिक कॉम्प्लेक्स, जहां पटवारियों से काम करवाने के लिए पहुंचे लोग। - Money Bhaskar
जिला प्रशासनिक कॉम्प्लेक्स, जहां पटवारियों से काम करवाने के लिए पहुंचे लोग।

जालंधर की 5 डिवीजनों के 304 सर्किलों में पटवारियों ने काम बंद कर दिया है। उन्होंने अपनी-अपनी डिवीजन के रिकॉर्ड कानूनगो दफ्तर में जमा करवाने शुरू कर दिए हैं। इससे जालंधर-1, जालंधर-2, नकोदर, शाहकोट और फिल्लौर में हालात खराब हो गए हैं। पटवारियों की तरफ 9 दिन पहले ही अपने सर्किल को छोड़ अतिरिक्त चार्ज संभालने से मना कर दिया था।

हालांकि कई सर्किलों में बकाया काम निपटाया जा रहा था। अब बुधवार से काम पूरी तरह से बंद कर दिया गया। इससे जमीन से जुड़े काम करवाने के लिए लोगों को काफी मुश्किल आने वाली है जबकि रजिस्ट्री करवाने के बाद इंतकाल को ऑनलाइन करने के लिए प्रभावित सर्किलों में समस्या पैदा होने वाली है।

जिले में पटवारियों के 402 पद हैं। 5 डिवीजनों में कुल 394 सर्किलों में 90 पर पटवारियों की तैनाती है। इसके चलते 304 सर्किलों पर जमीन से संबंधित काम नहीं होगा। बता दें सबसे ज्यादा 113 सर्किल फिल्लौर में हैं और सबसे कम पटवारियों की संख्या भी।

बंद हुए सर्किल में किसी भी तरह का नया इंतकाल नहीं होने से लोगों की बढ़ेंगी दिक्कतें

खाली पदों पर भर्ती की मांग
पटवारियों की मांग है कि खाली पदों पर जल्द पटवारी जल्द किए जाएं। उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से लंबे समय से खाली पद नहीं भरे जा रहे जिस कारण काम का बोझ बढ़ गया था। इसलिए अपने सर्किलों को छोड़ बाकी जगह काम करने की चेतावनी दी गई थी।

सर्टिफिकेट और वेरिफिकेशन के काम होंगे
द रेवन्यू पटवार यूनियन पंजाब की जिला इकाई के प्रधान सालग राम ने बताया कि जिले के 90 पटवारियों की तरफ से एडिशनल सर्किलों का काम बंद किया गया है। इसके साथ ही एलान किया गया है कि किसी भी सर्किल में बच्चों के दाखिले के साथ जुड़े कागज या सर्टिफिकेट को पटवारी की तरफ से खारिज नहीं किया जाएगा। इसमें कास्ट से संबंधित सर्टिफिकेट भी शामिल है जबकि अन्य किसी भी सर्टिफिकेट जिसमें जमीन का वेरवा देना होगा उसे वेरिफाई नहीं किया जाएगा।

इन कार्यों को करवाने में भटकेंगे आम लोग

  • रजिस्ट्री के बाद इंतकाल को ऑनलाइन चढ़ाने में समस्या
  • रजिस्ट्री की म्युटेशन
  • जो फर्दे ऑनलाइन नहीं हुई वे नहीं मिलेंगी।
  • विरासत इंतकाल की रजिस्ट्रेशन में दिक्कत।
  • जमीन की पूरी कीमत तय कर रजिस्ट्री करवाने।
  • फर्द को अपडेट नहीं किया जाएगा।
  • जमानत देने के लिए जमीन की कीमत का काम रूकेगा।

वहीं, पटवारियों ने बताया कि बंद हुए सर्किलों में कोई काम नहीं होगा। सबसे ज्यादा समस्या रजिस्ट्रियों के लिए गिरदावरी के अलावा अन्य कागजात लेने के लिए पैदा होगी। यानी सरकारी की अनदेखी का खामियाजा लोगों को भुगतना होगा। गौर हो कि कई सालों से पटवारी ऐसे ही काम कर रहे हैं, अब यह फैसला लिया गया है।

खबरें और भी हैं...