पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

चिट्टा तस्कर:गेट ग्रिल कारोबारी से 1.05 किलो हेरोइन बरामद, 1.72 लाख ड्रग मनी, पिस्टल भी मिले

जालंधर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आरोपी के बारे में जानकारी देते हुए सीपी गुरप्रीत सिंह व अन्य। - Money Bhaskar
आरोपी के बारे में जानकारी देते हुए सीपी गुरप्रीत सिंह व अन्य।

सीआईए स्टाफ की टीम ने सिटी में बड़े स्तर पर चिट्टे की सप्लाई देने वाले गेट ग्रिल बनाने वाले कारोबारी 38 साल के दीपक कपूर उर्फ दीपू वासी गांधी कैंप को अरेस्ट किया है। दीपक से एक किलो 50 ग्राम चिट्टा (हेरोइन), 1.72 लाख की ड्रग मनी, एक पिस्टल और तीन कारतूस बरामद हुए हैं। दीपक के तार अमृतसर और दिल्ली से चल रहे ड्रग्स रैकेट से जुड़े हैं। दीपक पहले भी चिट्टे के केस में जेल जा चुका है। 22 महीने जेल में रहने के बाद वह जमानत पर आया था। उसने गेट ग्रिल बनाने का काम शुरू कर लिया। 6 महीने के दौरान करीब 4 बड़ी खेप की सप्लाई बेचनी की बात स्वीकार कर है।

पहले भी चिट्टे के केस में हो चुकी है जेल, 3 दिन का रिमांड
पुलिस कमिश्नर गुरप्रीत सिंह तूर ने बताया कि सूचना मिली थी कि दीपक सिटी में एक बड़ी ड्रग्स की सप्लाई देने के लिए बाबू जगजीवन राम चौक से घास मंडी की ओर जा रहा है। इसके बाद डीसीपी जसकिरनजीत सिंह तेजा की सुपरविजन में इंचार्ज सुखजीत सिंह की टीम ने बाइक पर आ रहे आरोपी को पकड़ लिया। तलाशी लेने पर उससे चिट्टा, कैश व एक पिस्टल मिला।

प्राथमिक पूछताछ में दीपक कपूर ने माना कि वह सातवीं पास है। मोहाली पुलिस ने उसे कुछ साल पहले 450 ग्राम चिट्टे के साथ पकड़ा था। इस केस में उसे सजा हो गई थी। इस दौरान उसके तार अमृतसर और दिल्ली से चल रहे ड्रग्स रैकेट से जुड़ गए थे। कपूर से पूछा गया कि वह पिस्टल क्यों रखता है तो बोला डील में कोई विवाद हो तो वह इसका इस्तेमाल कर सके।

थाना-5 में दीपक कपूर के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। कपूर ने माना कि उसने 120 फुटी रोड पर गेट ग्रिल बनाने का कारोबार शुरू किया था। कारोबार में ज्यादा कमाई नहीं थी। इसलिए करीब 6 महीने पहले दोबारा चिट्टे का काम शुरू कर दिया। दीपक कपूर ने माना कि वह चिट्टा लेकर आया था, ताकि आगे सप्लाई दे सके। कपूर को कोर्ट में पेश करके तीन दिन के रिमांड पर लिया गया है।

खबरें और भी हैं...