पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रविनंदन शास्त्री:प्रभु की निष्काम भक्ति करना ही मनुष्य जीवन का असल लक्ष्य

कमाही देवीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सिद्ध पीठ माता कामाक्षी देवी दरबार में प्रवचन करते रविनंदन शास्त्री व मौजूद संगत। - Money Bhaskar
सिद्ध पीठ माता कामाक्षी देवी दरबार में प्रवचन करते रविनंदन शास्त्री व मौजूद संगत।

कमाही देवी के सिद्ध पीठ माता कामाक्षी देवी दरबार में धार्मिक कार्यक्रम के तहत भागवत कथा के दूसरे दिन कथावाचक रविनंदन शास्त्री ने भक्तों को सनातन संस्कृति और धर्म के बारे में जानकारी दी। शास्त्री ने कहा की मनुष्य के जीवन का प्रमुख श्रेय भगवान की निष्काम भक्ति ही है। इंसान की कामना कभी पूरी नहीं होती, इस संसार में सिर्फ भगवान ही ऐसे हैं जिनकी कामना पूरी होती हैं क्योंकि भगवान को हमसे किसी भी प्रकार की वस्तु की लालसा नहीं होती है। अगर हमें मानसिक शांति एवं शक्ति को प्राप्त करना है तो अपनी इंद्रियों को काबू में रखना चाहिए।

हमें अपने जीवन का श्रेय भगवान से प्रेम करना और बिना लोभ के साधना करना होना चाहिए। शास्त्री ने कहा कि भगवान अपने भक्तों की रक्षा करने के लिए समय-समय पर जन्म लेकर भक्तों को सुरक्षा कवच प्रदान करते हैं। पूरे ब्रह्मांड में सिर्फ सनातन धर्म ही ऐसा धर्म है, जिसमें भगवान समय-समय पर अवतार लेते रहे हैं। इसलिए हम सभी को सनातन धर्म की रक्षा करनी चाहिए। इस अवसर पर महंत राजगीरी सहित बड़ी संख्या में भक्त उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...