पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आक्रोश:किसानों-मजदूरों ने 50 से अधिक जेसीबी लेकर माइनिंग अधिकारी के कार्यालय का किया घेराव

फिरोजपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भारतीय किसान यूनियन डकौंदा के बैनर तले वीरवार को जिले के किसानों सहित बड़ी संख्या में जेसीबी, टिप्पर व ट्राॅली संचालकों सहित मजूदरों ने माइनिंग विभाग के खेतों से मैन्यूल मिट्‌टी निकालने संबंधी जारी किए गए निर्देशों के विरोध में रोष प्रदर्शन करते हुए माइनिंग अधिकारी के कार्यालय का घेराव किया। इसके बाद उनकी ओर से डीसी के नाम व मुख्यमंत्री के नाम मांगपत्र सौंपे गए, जिसमें मांग की गई कि शर्तों को हटाया जाए और किसानों को अपनी मर्जी से मशीनों के जरिए जमीन को ऊंची, नीची या समतल करने की परमिशन दी जाए।

इस दौरान किसानों व जेसीबी, टिप्पर व ट्रॉली संचालकों व मजूदरों की ओर से बड़ी संख्या में जेसीबी व ट्रैक्टर ट्रॉली लेकर रोड पर रोष प्रदर्शन किया गया। भाकियू डकौंदा के पदाधिकारी हरनेक सिंह महमा ने कहा कि माइनिंग विभाग की ओर से बीते दिनों किसानों पर अपने खेत से मशीन के जरिए मिट्‌टी निकालने पर माइनिंग एक्ट के तहत मामला दर्ज करवाए गए हैं, जिनका आज उनकी ओर से विरोध किया गया है। उन्होंने कहा कि विभागीय अधिकारियों का कहना है कि अगर किसी किसान को अपने खेत को ऊंचा, नीचा या समतल करने सहित फसल पैदा करने के लिए किसी भी तरीके से खेत में से मिट्‌टी निकालनी या डालने है तो वह मैनुअल तरीके से इसे करे।

वह किसी मशीन का इस्तेमाल नहीं कर सकता। इस पर महमा ने कहा कि अगर किसी किसान के पास 10 एकड़ जमीन है और उसे वहां से मिट्‌टी निकालनी या डालनी है तो मैन्युअल तरीके से इस प्रक्रिया को करने में तो साल लग जाएंगे। इस पर उन्होंने कहा कि इस शर्त को हटाया जाना चाहिए । इसके साथ ही पदाधिकारियों ने कहा कि अगर विभाग के आदेशों के अनुसार अगर यह प्रक्रिया मैन्युअल की गई तो जेसीबी, टिप्पर व ट्रॉली पर काम करने वाले हजारों मजदूरों का रोजगार छिन जाएगा।

किसानों ने मांगों को लेकर प्रदर्शन करते हुए कहा कि माइनिंग एक्ट की जिन धाराओं के तहत किसान को अपनी जमीन ऊंची करने, नीची करने, समतल करने, फसल पैदा करने व किसी भी किस्म से तबदीली करने के लिए लाइसेंस की जरूरत होगी उन धाराओं में तब्दीली करते हुए किसान को लाईसेंस लेने की शर्त से मुक्त किया जाए।

उन्होंने मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में बताया कि वह उनका ध्यान फिरोजपुर जिले में बीते दिनों घटी कुछ घटनाओं की दिलाते हुए बताना चाहते हैं कि वहां किसानों ने अपनी जमीन नीची करने के लिए जेसीबी मशीन लगाकर 2 फुट गहरी डेढ़ एकड़ जमीन की खुदाई की जिस पर माइनिंग अधिकारी की ओर से उन पर मामला दर्ज कर दिया गया।

उन्होंने यह दलील दी कि उक्त किसान जमीन को नीचा करने के लिए मशीन का इस्तेमाल नहीं कर सकते। ऐसी शर्तों को हटाया जाए। डीसी के नाम लिखे गए पत्र में उन्होंने मांग करते हुए कहा कि दो किसान जगतार सिंह निवासी कबरवच्छा व सतनाम सिंह निवासी मुदकी, जो सुसाइड कर गए हैं उनके मुआवजे की राशि जल्द जारी की जाए। नहरी पानी के लिए माइनर की सफाई जल्दी करवाई जाए, पानी व बिजली की बिना किसी बाधा सप्लाई यकीनी बनाई जाए।

खबरें और भी हैं...