पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX60961.010.06 %
  • NIFTY18153.9-0.13 %
  • GOLD(MCX 10 GM)473800.04 %
  • SILVER(MCX 1 KG)646780.63 %

विकास कार्यों पर सदस्यों ने ही उठाए सवाल:करोड़ों रुपए खर्चकर लगाई जा रही इंटरलॉक टाइलें दबीं आरोप-काम का रिकार्ड मांगा तो अफसरों ने किया इनकार

संगरूरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वार्ड 23 में उखड़ी टाइलें दिखातीं ट्रस्ट की सदस्य संतोष कुमारी। - Money Bhaskar
वार्ड 23 में उखड़ी टाइलें दिखातीं ट्रस्ट की सदस्य संतोष कुमारी।

नगर सुधार ट्रस्ट की ओर से करोड़ों रुपए खर्च कर विकास कार्य करवाए जा रहे हैं लेकिन इसके सदस्यों ने ही ट्रस्ट की कार्यशैली को कठघरे में खड़ा कर दिया है। उनका आरोप है कि ट्रस्ट के अधिकारी ठेकेदारों से मिलकर शहर में घटिया सामग्री इस्तेमाल कर रहे हैं वहीं रिकार्ड मांगने पर इनकार कर दिया। वीरवार को ट्रस्ट की सदस्य संतोष कुमारी, परमानंद और लक्ष्मण दास ने बैठक की। सदस्यों ने कहा कि नगर सुधार ट्रस्ट की ओर से करोड़ों रुपए खर्च कर कॉलोनियों और मोहल्लों की गलियों में इंटरलॉक टाइलें लगवाई जा रही हैं परंतु घटिया मटीरियल लगाया जा रहा हैै।

इसका खुलासा हाल ही में बरसात के बाद कई कॉलोनियों में टाइले दब गई हैं, कई स्थानों पर गड्डे बन गए हैं। शिकायत के बावजूद अधिकारियों ने ठेकेदारों पर कोई कार्रवाई नहीं की। वह कांग्रेसी चेयरमैन नरेश गाबा को भी कई बार शिकायत कर चुके हैं परंतु वह भी सुनवाई नहीं कर रहे हैं। सदस्यों ने विकास कार्यों की विजीलेंस से जांच की मांग की है। इस सबंधी उन्होंने स्थानीय निकाय विभाग के मंत्री को भी पत्र लिखा है।

बस स्टॉप निर्माण को लेकर भी विवादों में रहा है ट्रस्ट
आपको बता दें कि इससे पहले भी नगर सुधार ट्रस्ट की ओर से करवाए गए विकास कार्य में घटिया सामग्री और लाखों रुपए खर्च कर बनाए गए बस स्टॉप को लेकर भी सवाल उठ चुके है परंतु जांच के नाम पर मामलों को दबा दिया गया है। अब विकास कार्यों में घटिया सामग्री लगाने के आरोप लग रहे हैं।

सदस्य बोले-टैंडर लगाते समय भी सदस्यों से नहीं ली गई कोई सहमति

सदस्यों ने आरोप लगाया कि कुछ दिन पहले ट्रस्ट ने 3 करोड़ रुपए के टैंडर लगाए थे। इस संबंधी सदस्यों से कोई सहमति नहीं ली। नियुक्ति के दो माह बाद भी ट्रस्ट सदस्यों से कोई बैठक नहीं की गई। उन्होंने कहा कि विकास कार्यो संबंधी जब उन्होंने अधिकारियों से रिकाॅर्ड तलब किया तो देने से इनकार कर दिया। उनको कहा गया कि आपको रिकार्ड मांगने का कोई अधिकार नहीं है। वहीं शहर में करवाए जा रहे विकास कार्यों में घटिया सामग्री लगाने के आरोपों संबंधी नगर सुधार ट्रस्ट के ईओ जीवन बांसल का कहना है कि ट्रस्ट सदस्यों ने उनके पास कभी कोई शिकायत नहीं की है। विकास कार्यों की निगरानी इंजीनियर टीम की ओर से ही की जाती है।

कई स्थानों पर घटिया मैटीरियल लगाया

ट्रस्ट सदस्यों ने महाराजा रणजीत सिंह मार्किट, सुनामी गेट, थलेस बाग गली नंबर 5, इंदरा बस्ती, मक्खन राम वाली गली, वार्ड नंबर 23 में दौरा किया तो लोगों से पता चला कि कई स्थानों पर घटिया मैटीरियल इस्तेमाल किया गया है। सरकारी फंडों का दुरुपयोग किया गया है। उन्होंने आरोप लगाया कि बिना मार्क टाइलों का इस्तेमाल किया जा रहा है। कई स्थानों पर पुरानी टाइलें लगा दी गई हैं जोकि उखड़नी शुरू हो गई हैं।

खबरें और भी हैं...