पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

तनखैया थमिंदर सिंह का SGPC पर आरोप:ई-मेल के जरिए भेजा जवाब, मांगी माफी- तख्त पर पेश नहीं हो सकता

अमृतसरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

श्री गुरु ग्रंथ साहिब को गलतियों के साथ ऑनलाइन प्रकाशित करने के जुर्म में तनखैया घोषित किए गए थमिंदर सिंह आनंद ने शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (SGPC) पर निशाना साधा है। अमेरिका में बसे थमिंदर सिंह ने ई-मेल के माध्यम से श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह को जवाब भेजा है। थमिंदर ने अपनी अनुपस्थिति के लिए माफी भी मांगी है।

ऑन लाइन प्रिंट किए गए श्री गुरु ग्रंथ साहिब में दिख रही गलतियां।
ऑन लाइन प्रिंट किए गए श्री गुरु ग्रंथ साहिब में दिख रही गलतियां।

अमेरिका में रहते हुए ऑनलाइन श्री गुरु ग्रंथ साहिब प्रकाशित करने वाले थमिंदर सिंह आनंद ने आरोप लगाया है कि 1952 में SGPC द्वारा प्रकाशित गुरु ग्रंथ साहिब के स्वरूप में 700 से अधिक गलतियां थी। यह गलतियां अब बढ़कर 5,000 से अधिक हो चुकी हैं। इन्हें सुधारने के लिए समय-समय पर विभिन्न समितियों का गठन भी किया जाता रहा है, जो स्पष्ट करती हैं कि SGPC ने अपनी इन गलतियों को स्वीकारा है।

अनुपस्थिति के लिए मांगी माफी

थमिंदर ने सेहत का हवाला देते हुए जत्थेदारों के सामने पेश न होने के लिए अपनी लाचारी व्यक्त की है। थमिंदर सिंह आनंद ने अपने जवाब में लिखा है कि दुर्भाग्यवश वह अपनी बिगड़ती सेहत के चलते पहुंच नहीं सका। उनके डॉक्टर द्वारा किसी भी प्रकार की यात्रा करने पर प्रतिबंध लगाया गया है।

क्या था मामला

SGPC और श्री अकाल तख्त ने थमिंदर पर टिप्पी, बंदियों का उपयोग करके और विश्राम चिन्हों को बदलकर गुरबानी को ऑनलाइन प्रकाशित करने का आरोप लगाया था, जिसे SGPC और श्री अकाल तख्त साहिब ने सिख मर्यादा का उल्लंघन करार दिया था। 3 मई को सिख जत्थेदारों ने एक बैठक करके थमिंदर सिंह आनंद को तनखैया घोषित कर दिया था। इसके साथ ही उन्हें एक महीने में अकाल तख्त पर पेश होने का निर्देश दिया था।