पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नई परेशानी:जौड़ा फाटक हादसा पीड़ितों की उम्र पता नहीं होने पर सैलरी रोकी, एक्स-रे से हो सकेगा समाधान

अमृतसर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • हादसे में मारे गए 59 लोगों में से पिछले दिनों सरकार ने 34 लोगों को अलग-अलग विभागों में नौकरी दी थी

साल 2018 में दशहरे के दिन जौड़ा फाटक पर हुए ट्रेन हादसे में मारे गए आश्रितों को नौकरी तो मिल गई, लेकिन उसमें से कुछ एेसे हैं, जिनकी उम्र का प्रमाण नहीं है। यही कारण है कि उनको सैलरी नहीं मिल रही है। फिलहाल उनका एक्स-रे कराया जा रहा है ताकि उम्र का पता लग सके। बता दें कि हादसे में मारे गए 59 लोगों में से पिछले दिनों सरकार ने 34 लोगों को अलग-अलग विभागों में नौकरी दी थी। उसमें से नगर निगम में बतौर सफाई सेवक काम करने वाले आधा दर्जन के करीब ऐसे हैं जिनकी उम्र की सटीक जानकारी ही नहीं है। गुरु नानक देव अस्पताल में एक्स-रे कराने आए दीपक, गुरजीत, पवन, रविकुमार और गुरदीप के मुताबिक उनकी उम्र का पता न होने के कारण सैलरी में दिक्कत आ रही है। फिलहाल यहां पर एक्स-रे करवा लिया है। डॉक्टरों ने बताया कि इनके हाथों का एक्स-रे किया गया है और उससे उम्र का सही अंदाजा लग जाएगा।

खबरें और भी हैं...