पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पंजाब चुनाव 2022 में 'शक्ति' का बोलबाला:1 करोड़ से ज्यादा महिला वोटर, पिछले 3 इलेक्शन में पुरुषों से अधिक वोटिंग के कारण फोकस इन्हीं पर

अमृतसर6 महीने पहलेलेखक: अनुज शर्मा
  • कॉपी लिंक

पंजाब में 2022 के विधानसभा चुनावों का बिगुल बज चुका है। 2.09 करोड़ लोग इन चुनावों में अपने मतदान का प्रयोग कर अगले 5 साल के लिए प्रदेश का भविष्य निर्धारित करेंगे। इसमें एक करोड़ महिला मतदाता हैं। पिछले लोकसभा और विधानसभा चुनावों को देखें तो महिला मतदाताओं का वोटिंग प्रतिशत पुरुषों के मुकाबले अधिक रहा।

सभी राजनीतिक पार्टियों ने इन आंकड़े के कारण ही का महिला वोटरों की ओर विशेष झुकाव है। भारतीय जनता पार्टी को छोड़कर हर बड़ी पार्टी पंजाब में महिला मतदाताओं के लिए कई बड़ी घोषणाएं अब तक कर चुकी हैं। इस संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता कि आने वाले दिनों में महिला वोटर्स पर राजनीतिक दलों का फोकस और बढ़ेगा।

99 लाख महिला वोटर हैं सूबे में
पंजाब में 2022 के विधानसभा चुनावों में अभी तक की सूची के अनुसार 2.09 करोड़ मतदाता अपने मत का इस्तेमाल करेंगे। इनमें 99 लाख महिला वोटर हैं। संशोधित सूची के बाद महिला वोटर्स का आंकड़ा 1 करोड़ के पार चला जाएगा। 2019 के लोकसभा चुनावों के आंकड़ों की बात करें तो 1 करोड़ 98 लाख 78 हजार 654 वोटर थे। इनमें से 1 करोड़ 5 लाख 3 हजार 108 पुरुष और 93 लाख 75 हजार 546 महिला मतदाता थे।

वोटिंग आउटपुट की बात करें तो 78.5 % पुरुषों ने अपने मतदान का प्रयोग किया। वहीं पुरुषों से आगे निकलते हुए 79.2% महिला वोटर्स अपने मतदान का प्रयोग किया। 2017 और 2012 के विधानसभा चुनावों में वोटिंग आंकड़े भी कुछ ऐसे ही थे। 2012 में 77.58% पुरुष और 78.90% महिलाओं ने अपने वोट का प्रयोग किया था। वहीं 2017 में 78.5% पुरुषों और 79.2% महिलाओं ने मताधिकार का इस्तेमाल किया।

सबसे पहले AAP ने किया महिलाओं से वादा
2022 चुनावों के लिए महिलाओं से वादा करने में आम आदमी पार्टी (AAP) सबसे पहले आगे आई थी। केजरीवाल की घोषणा के बाद अन्य दलों ने पहले तो उन पर बजट को लेकर निशाना साधा। फिर खुद भी महिलाओं के लिए घोषणाएं वादे करने के लिए आगे आ गईं।

AAP कनवीनर अरविंद केजरीवाल ने अपनी गारंटियों के तहत घोषणा की थी पार्टी सत्ता में आई तो पंजाब की सभी महिलाओं के खातों में हर महीने 1,000 रुपए ट्रांसफर किए जाएंगे। बुजुर्ग महिलाओं को मासिक वृद्धावस्था पेंशन में 1,000 रुपए की बढ़ोतरी करने का ऐलान भी किया था।

तीनों पार्टियां कांग्रेस, अकाली दल और आम आदमी पार्टी महिला वोटरों पर फोकस कर रही हैं।
तीनों पार्टियां कांग्रेस, अकाली दल और आम आदमी पार्टी महिला वोटरों पर फोकस कर रही हैं।

अकाली दल की माता खीवी दी रसोई स्कीम
शिरोमणि अकाली दल अध्यक्ष सुखबीर बादल ने गृहणियों को घर खर्च के लिए 2000 रुपए प्रति महीना देने की घोषणा की। इस स्कीम को माता खीवी जी दी रसोई नाम दिया। साथ ही महिलाओं को नौकरी में 50 प्रतिशत का आरक्षण की भी घोषणा कर चुके हैं।

सिद्धू ने सबसे ज्यादा कोसा फिर किए सबसे ज्यादा वादे
पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी (PPCC) प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू ने महिलाओं के लिए घोषणाओं पर पहले केजरीवाल को जमकर कोसा। वहीं बरनाला क्षेत्र में नए साल के शुरू में हुई रैली में महिला वोटरों को रिझाने के लिए सबसे ज्यादा घोषणाएं की :

  • सरकार बनने के बाद महिलाओं को प्रति माह 2,000 रुपए और एक साल में 8 रसोई गैस सिलेंडर मुफ्त देने का ऐलान किया।
  • साथ ही कॉलेजों में प्रवेश लेने वाली लड़कियों के लिए दोपहिया वाहन देने की घोषणा कर दी।
  • 12वीं पास करने पर बच्चियों को 20,000 रुपए, 10वीं कक्षा पास करने पर 15,000 रुपए और 5वीं कक्षा पास करने पर 5,000 रुपए देने का वादा किया।
  • हर जिले में विशेष कौशल केंद्र बनाने की घोषणा की। महिला को घर से ही व्यवसाय शुरू करने के लिए 2 से 16 लाख रुपए तक ब्याज मुक्त ऋण देने का ऐलान किया।
  • महिलाओं के स्टार्टअप या व्यापार करने के लिए सरकारी दफ्तर में अलग से खिड़की बनाने का ऐलान किया।