पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जंगल में बेसुध मिला हाथी, VIDEO:40 ड्रिप लगाने पर आया, JCB की मदद से खड़ा किया

उमरिया2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

उमरिया में बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व (BTR) में एक हाथी बेहोशी की हालत में पड़ा हुआ मिला। हाथी जंगल में चारा खाकर बेहोश हो गया था। हालांकि, समय रहते उसका इलाज किया गया और वह स्वस्थ होकर जंगल चला गया। फिलहाल बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व की टीम लगातार उस हाथी की निगरानी कर रही है। गश्त के साथ ही इलाके में अन्य सभी हाथियों के मूवमेंट की निगरानी की जा रही है।

पनपथा बफर में बेहोश मिला था जंगली हाथी
ये जंगली हाथी BTR के पनपथा बफर परिक्षेत्र की जमुनिया बीट में गश्ती दल को बेहोशी की हालत में मिला था। इस बात की जानकारी मिलने के बाद अधिकारियों ने रेस्क्यू दल और डॉक्टर को मौके पर भेजा और इलाज शुरू हुआ।

पनपथा बफर परिक्षेत्र की जमुनिया बीट के कक्ष क्रमांक 182 में बेहोश मिले हाथी को ड्रिप चढ़ाते हुए वन अमला।
पनपथा बफर परिक्षेत्र की जमुनिया बीट के कक्ष क्रमांक 182 में बेहोश मिले हाथी को ड्रिप चढ़ाते हुए वन अमला।

40 ड्रिप और JCB की मदद से पहुंचा जंगल
बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के पशु चिकित्सक डॉक्टर नितिन गुप्ता ने बताया कि हाथी के बेहोश होने की जानकारी लगते ही हम मौके पर पहुंचे। उसे 40 ड्रिप लगाते हुए मेडिसिन दी गई, जिसके बाद उसे होश आया। लेकिन, लंबे समय तक लेटे रहने के कारण हाथी को खड़े होने में दिक्कत हो रही थी।

बाद में जेसीबी बुलाई गई और बमुश्किल उसे खड़ा किया जा सका। जब वह सामान्य हुआ तो जंगल की तरफ चला गया। डॉ. गुप्ता ने बताया कि यह पहला मौका है जब हाथी अचेत अवस्था में मिला था। अब वह स्वस्थ है।

की जा रही है हाथियों की निगरानी
बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के क्षेत्र संचालक राजीव मिश्रा ने बताया कि हाथी बेहोश मिला था। उसने क्या खाया जिसके कारण उसे दिक्कत हुई, इस बात की जांच की जा रही है। फिलहाल हाथी स्वस्थ है, और लगातार निगरानी की जा रही है।

उपचार के बाद बेहोश हाथी को उठाने की कोशिश की गई। लेकिन काफी देर तक पड़े रहने की वजह से वह निढाल था, जिसकी वजह से उसे जेसीबी की मदद से खड़ा किया गया।
उपचार के बाद बेहोश हाथी को उठाने की कोशिश की गई। लेकिन काफी देर तक पड़े रहने की वजह से वह निढाल था, जिसकी वजह से उसे जेसीबी की मदद से खड़ा किया गया।

कोदो खाकर बेहोश होने का शक
बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के सहायक संचालक एफएस निमाना ने बताया कि पनपथा बफर से जुड़े हुए क्षेत्रों में कोदो की खेती की जाती है। वहीं पर जंगली हाथियों ने कोदो खाया होगा और अधिक मात्रा में कोदो खाने से उसके बेहोश होने की आशंका है। हालांकि फिलहाल हम लगातार जांच में जुटे हुए हैं।

निढाल पड़े हाथी को जगाने की कोशिश करते वन विभाग के अधिकारी।
निढाल पड़े हाथी को जगाने की कोशिश करते वन विभाग के अधिकारी।

टाइगर रिजर्व में घूम रहे हाथियों के कई झुंड
टाइगर रिजर्व क्षेत्र में हाथियों के कई झुंड घूम रहे हैं। जिनकी संख्या लगभग 50 से ज्यादा है। यह अलग-अलग क्षेत्रों में विचरण करते हैं। विशेषज्ञों के मुताबिक हाथियों के झुंड का संचालन मादा हथिनी ही करती है और वही सभी बच्चों का ध्यान भी रखती है। बच्चे भले ही दूसरी मां के हों लेकिन मादा हथिनी सभी बच्चों की देखरेख एक जैसी ही करती है।

टाइगर रिजर्व से जुड़ी ये खबरें भी पढ़ें...

...जब टूरिस्ट्स के सामने आ गई टाइगर फैमिली:सतपुड़ा टाइगर रिजर्व में रोका रास्ता; देखें VIDEO

टाइगर... नाम सुनते ही मन में रोमांच पैदा हो जाता है... और अगर सामने आ जाए तो... एमपी के सतपुड़ा टाइगर रिजर्व में ऐसा ही कुछ हुआ है, एक नहीं, दो नहीं, तीन बाघ ने पर्यटकों का रास्ता रोक लिया। सतपुड़ा टाइगर रिजर्व (STR) में टूरिस्ट्स को एक बार फिर टाइगर फैमिली के दीदार हुए। पूरी खबर पढ़ें...

बाघ को चकमा देती नीलगाय का VIDEO: सतपुड़ा टाइगर रिजर्व का रोमांचक नजारा

सतपुड़ा टाइगर रिजर्व का रोमांचित करने वाला VIDEO सामने आया है। यहां बाघ शिकार करने आगे बढ़ा, जिसे नीलगाय ने देख लिया। करीब 25-30 फीट दूरी पर बैठे टाइगर ने जैसे ही पोजीशन ली, नीलगाय ने उसे देख लिया। टाइगर के इरादे भांपकर नीलगाय ने दौड़ लगा दी। VIDEO काे सतपुड़ा टाइगर रिजर्व ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर भी पोस्ट किया है। पूरी खबर पढ़ें...

बाघ को जंगल में छोड़ा, VIDEO:भोपाल में 15 दिन बाद पकड़ाया था टाइगर

राजधानी भोपाल के मौलाना आजाद राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (मैनिट) में पकड़े गए बाघ टी-421 को रविवार रात में सतपुड़ा टाइगर रिजर्व के चूरना रेंज के बाड़े छोड़ दिया गया। शनिवार देर रात करीब 3 बजे बाघ पिंजरे में फंसा था। जिसे रविवार को भोपाल से नर्मदापुर ले जाया गया था। रात में इस बाघ को छोड़ दिया गया। पूरी खबर पढ़ें...

टाइगर के साथ सेल्फी का पागलपन; पन्ना में रोड क्रास कर रहे बाघ के साथ फोटो के लिए जान जोखिम में डाल रहे राहगीर

सेल्फी के चक्कर में लोग जोखिम उठाने से भी परहेज नहीं करते। पन्ना टाइगर रिजर्व में बाघों की बढ़ती संख्या के कारण आए दिन वनराज सड़कों पर दिखाई दे रहे हैं। यही वजह है कि राहगीर बाघों के साथ सेल्फी लेते दिख रहे हैं। ऐसा ही नजारा पन्ना-छतरपुर रोड पर दिखा। जहां एक बाघ सड़क पार कर रहा है और राहगीर बाघ के थोड़ी ही दूरी पर बिना सुरक्षा के खड़े होकर इत्मीनान के साथ सेल्फी ले रहे हैं। पूरी खबर पढ़ें...