पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Umaria
  • 16,000 Got The Registration Done, Only 4 Thousand Sold The Produce; Farmers Changed Attitude Due To Difference In Price

सरकारी खरीदी से किसानों ने बनाई दूरी:16,000 ने करवाया पंजीयन, सिर्फ 4 हजार ने ही बेची उपज; भाव में अंतर होने के कारण किसानों ने बदला रुख

उमरिया2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

उमरिया जिले के किसानों का रुझान इस बार खरीदी केंद्रों मे नहीं दिखा। अधिकतर किसान गेहूं बेचने के लिए खरीदी केंद्र भी नहीं पहुंचे। जहां खरीदी के लिए एक दिन शेष रह गया है, वहीं अभी भी गेहूं बेचने के लिए लगभग 12 हजार से किसान खरीदी केंद्र पहुंचे ही नहीं। किसानों ने बाहर ही अपनी फसल बेच दी है।

कृषि विभाग से मिली जानकारी के अनुसार, जिले में अभी तक 4450 किसानों ने एक लाख 36 हजार 736 क्विंटल गेहूं की उपज खरीदी केंद्रों पर बेची है। जिले में 16 हजार 312 किसानों ने गेहूं बेचने के लिए पंजीयन कराया था, लेकिन खरीदी केंद्रों में 4450 किसानों ने ही खरीदी केंद्रों में पहुंच कर गेंहू बेचा है। लगभग 12 हजार किसानों ने मंडी में या बाहर अपनी उपज बेची है।

कल खरीदी का आखरी दिन

जिला आपूर्ति अधिकारी बीएस परिहार ने बताया कि जिले मे गेहूं खरीदी का कार्य 4 अप्रैल से प्रारंभ हो गया था। कल यानी सोमवार को खरीदी का आखरी दिन है, लेकिन जिले में अब तक 4450 किसानों से 136736.81 क्विंटल गेहूं की ही खरीदी हुई है।

इसलिए किसान नहीं बेच रहे फसल

वहीं किसान राकेश ने बताया कि देरी से भुगतान और छन्ना से परेशानी के कारण किसान खरीदी केंद्र नहीं पहुंच रहे है। कुछ किसानों का कहना है कि जो समर्थन मूल्य सरकार ने तय किया है। उससे ज्यादा भाव मंडी में बिक रहा है। जिससे किसान खरीदी केंद्रों पर नहीं पहुंच रहे। चने की भी यहीं स्थिति खरीदी केंद्रों में दिखाई दे रही है। चना की भी आवक बहुत कम है।

खबरें और भी हैं...