पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • Three Soldiers Were Carrying Charas To Bhairavgarh Jail To Sell Prisoners, All Three Were Not Opening Their Mouths, Suspended, Preparing To Be Dismissed

जेल में नशा ले जा रहे 3 सिपाही पकड़ाए:भैरवगढ़ सेंट्रल जेल के अंदर मुंह में रखकर ले जा रहे थे चरस, तीनों सस्पेंड

उज्जैन10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

उज्जैन की सेंट्रल भैरवगढ़ जेल में एक के बाद एक नए खुलासे हो रहे हैं। अब कैदियों को चरस बेचने जा रहे तीन प्रहरी पकड़े गए हैं। तीनों को सस्पेंड कर दिया गया है। दरअसल, जेल में रविवार शाम को जेल अधिकारी, कर्मचारी और बंदी काल भैरव की सवारी देखने की तैयारी में थे। इस बीच जेल अधीक्षक उषा राज ने 3 सिपाही को मुंह में चरस ले जाते हुए पकड़ लिया। ये सिपाही बाहर से चरस खरीदकर अंदर कैदियों को अधिक दाम में बेचते थे। जेल अधीक्षक ने जेल मुख्यालय से घटना की शिकायत कर दी है।

जानकारी के मुताबिक जेल अधीक्षक उषा राज रविवार की शाम चेकिंग कर रही थीं, तभी सिपाही शाहरुख, यशपाल कहार और बलराम उनके सामने आए। तीनों के मुंह बंद थे। जब जेल अधीक्षक ने उन्हें रुकवाया तो वे मुंह खोलने को तैयार नहीं हुए। सख्ती करने पर तीनों ने मुंह खोला तो चरस की पुड़िया निकली।

चरस जब्त करते हुए मौके पर ही पंचनामा बनाया और तीनों सिपाहियों को सस्पेंड कर दिया। जेल अधीक्षक ने बताया कि घटना की जानकारी जेल डीजी को भी दे दी गई है। जेल मुख्यालय तीनों दोषियों को बर्खास्त करने की तैयारी में है।

800 की पुड़िया 1500 में बेचते थे
जेल अधीक्षक उषा राज ने बताया सिपाही यशपाल ने स्वीकारा है कि वह बाहर से 800 रुपए में नशे की पुड़िया खरीदता था और कैदियों को 1500 रुपए में बेचता था। उसने यह भी स्वीकार किया है कि पूर्व अधिकारियों के कार्यकाल में दो से तीन बार जेल में चरस की पुड़िया ले गया था। अधिकारी बदले तो बंद कर दिया था।

पुलिस को कार्रवाई के लिए लिखेंगे पत्र
सिपाही बाहर किससे चरस खरीदते थे और अंदर किसे बेचते थे? इस संबंध में पुलिस को कार्रवाई के लिए पत्र लिख रहे हैं। सभी सिपाहियों पर नजर रखी जा रही है। इसके लिए अलग से टीम बनाई गई है।