पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57200.23-0.13 %
  • NIFTY17101.95-0.05 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47875-1.15 %
  • SILVER(MCX 1 KG)61247-2.76 %

महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग की भस्म आरती:15 माह बाद शनिवार सुबह से श्रद्धालु शामिल हो सकेंगे भस्म आरती में

उज्जैन5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

विश्व प्रसिद्ध महाकालेश्वर मंदिर में भस्म आरती में सामान्य श्रद्धालुओं को प्रवेश देने का क्रम 11 सितंबर से शुरू हो रहा है। मंदिर समिति ने प्रोटोकाल के माध्यम से आने वाले दर्शनार्थियों से भस्म आरती के लिए 200 रुपए और प्रोटोकॉल वीआईपी दर्शन के लिए प्रति सदस्य 100 रुपए शुल्क निर्धारित किया है।

शुक्रवार से हरिफाटक ओवरब्रिज के नीचे स्थित हाट बाजार में प्रोटोकॉल कार्यालय शुरू कर दिया है। पहले दिन शाम 6 बजे तक करीब 55 से अधिक भस्मारती अनुमति प्रोटोकाल के माध्यम से हुई। इन सभी अनुमति के लिए प्रति सदस्य 200 रूपए शुल्क की रसीद काटी गई है।

तमाम विरोध के बाद श्री महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति द्वारा प्रोटोकाल व्यवस्था पर लगाए गए शुल्क की प्रक्रिया शुरू हो गई है। महाकाल मंदिर प्रशासक सुजान सिंह रावत ने बताया भस्म आरती के लिए सभी जरूरी व्यवस्था जुटा ली गयी है। किसी भी श्रद्धालु को नंदी हाल और गर्भ गृह में प्रवेश नहीं मिलेगा।

शुक्रवार से मंदिर समिति ने हरिफाटक ओवर ब्रिज के नीचे स्थित हाट बाजार में मंदिर समिति के प्रोटोकॉल कार्यालय का शुभारंभ कर दिया है। यहां फिलहाल प्रोटोकॉल देखने वाले 5 कर्मचारियों के साथ कंप्यूटर प्रिंटर और 200 रूपए तथा प्रोटोकाल दर्शन के लिए 100 रुपए शुल्क वाले रसीद कट्टे के रखे गए हैं। प्रोटोकाल प्रभारी अभिषेक भार्गव ने बताया कि प्रोटोकॉल कार्यालय प्रतिदिन भस्म आरती अनुमति देने के लिए सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक खुला रहेगा।

शाम 5 बजे बाद प्रोटोकॉल कार्यालय से भस्म आरती के लिए अनुमति देना बंद हो जाएगी। शाम 5 बजे तक 200 रुपए शुल्क के साथ निर्धारित प्रोटोकॉल वालों से सूचना मिलने के बाद भस्म आरती के लिए अनुमति संबंधित के मोबाइल नंबर पर जारी की जाएगी। इसी तरह प्रोटोकॉल के तहत वीआईपी दर्शन सुविधा के लिए सुबह 6 बजे से रात 8 बजे तक कार्यालय से 100 रुपए प्रति सदस्य शुल्क लेने के बाद दर्शन के लिए अनुमति कोड जारी किया जाएगा।

पुजारी व नि:शुल्क अनुमति मंदिर काउंटर से मिलेगी -

श्री महाकालेश्वर मंदिर समिति ने भस्म आरती शुरू करने का निर्णय लेने के साथ ही मंदिर के पुजारियों के लिए करीब ढाई सौ अनुमति जारी करने के लिए भस्मारती काउंटर प्रशासनिक भवन के पास व्यवस्था की है। इसी काउंटर पर प्रतिदिन डेढ़ सौ अनुमति सुबह जल्दी आकर लाइन में लगने वाले सामान जनों को नि:शुल्क उपलब्ध कराई जाएगी। प्रोटोकॉल कार्यालय से विभागीय अनुमति जारी होगी

हरि फाटक ओवर ब्रिज के नीचे हाट बाजार में बनाए गए प्रोटोकॉल कार्यालय में प्रशासनिक स्तर पर आने वाले सभी विभागों के अलावा चुने हुए जनप्रतिनिधि, विधायक, सांसद, मंत्री और प्रमुख दोनों पार्टी के अध्यक्ष द्वारा दिए गए नाम पर निर्धारित शुल्क के साथ अनुमति जारी की जाएगी। वहीं बाहर के अन्य जनप्रतिनिधि विधायक, सांसद द्वारा लेटर पैड पर अनुमति के लिए नाम देने और सदस्य अनुसार निर्धारित शुल्क जमा करने पर मोबाइल के मैसेज पर अनुमति जारी कर दी जाएगी। इसी तरह प्रेस के लिए जनसंपर्क विभाग से मैसेज आने के बाद अनुमति फॉर्म जमा करने के साथ निर्धारित शुल्क जमा करने के बाद अनुमति जारी की जाएगी।

भस्म आरती की ऑनलाइन बुकिंग के लिए यहां क्लिक करें -
इसी प्रकार मंदिर प्रबंध समिति की वेबसाइट www.mahakaleshwar.nic.in पर 100 रुपए के शुल्क के साथ ऑनलाईन बुकिंग करा सकेंगे।

अफसरों ने किया निरीक्षण -
लंबे अरसे बाद श्रद्धालुाअों को भस्मआरती में प्रवेश देने की प्रक्रिया को प्रशासनिक टीम ने अंतिम रूप दिया। निरीक्षण के दौरान मंदिर प्रबंध समिति के अध्यक्ष एवं कलेक्टर आशीष सिंह, पुलिस अधीक्षक सत्येन्द्र कुमार, स्मार्ट सिटी सीईओ जितेन्द्र सिंह चौहान, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अमरेंद्र सिंह, उज्जैन विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालन अधिकारी सोजान सिंह रावत, मंदिर प्रबंध समिति के सहायक प्रशासक मूलचंद जूनवाल, प्रतीक द्विवेदी, सुरक्षा अधिकारी दिलीप बामनिया आदि उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...