पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

फ्रीडम टू वॉक और साइकिलिंग चैलेंज स्पर्धा:44 साइकिल, 44 किमी चलाई और जीत के लिए जोड़ दिए 2000 किलोमीटर

उज्जैन5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कोहरे में बिछड़ गए प्रतियोगी
सुबह घना कोहरा था। प्रतियोगियों के अनुसार कोहरे के कारण तय रास्ते से कुछ लोग भटक गए और अन्य रास्तों से गंभीर डेम पहुंचे। वहां नाश्ते के बाद फिल्टर प्लांट का अवलोकन किया। पीएचई के राजीव शुक्ला ने फिल्टर प्लांट और जलप्रदाय व्यवस्था की जानकारी दी। निगमायुक्त अंशुल गुप्ता भी प्रतिभागियों से मिलने व मनोबल बढ़ाने मौक़े पर पहुंचे। स्वल्पाहार जीरो वेस्ट की तर्ज़ पर कराया। भ्रमण के बाद प्रतिभागी पुनः कोठी के लिए रवाना हो गए। इस रैली का उद्देश्य केंद्रीय मंत्रालय द्वारा फ्रीडम टू साइकल चैलेंज में शहर के साइकल चलाने के किलोमीटर बढ़ाना था। रैली के प्रभारी मोहित गुप्ता के अनुसार रैली के कारण करीब 2000 किमी साइकिलिंग की बढ़ोतरी हुई है। - Money Bhaskar
कोहरे में बिछड़ गए प्रतियोगी सुबह घना कोहरा था। प्रतियोगियों के अनुसार कोहरे के कारण तय रास्ते से कुछ लोग भटक गए और अन्य रास्तों से गंभीर डेम पहुंचे। वहां नाश्ते के बाद फिल्टर प्लांट का अवलोकन किया। पीएचई के राजीव शुक्ला ने फिल्टर प्लांट और जलप्रदाय व्यवस्था की जानकारी दी। निगमायुक्त अंशुल गुप्ता भी प्रतिभागियों से मिलने व मनोबल बढ़ाने मौक़े पर पहुंचे। स्वल्पाहार जीरो वेस्ट की तर्ज़ पर कराया। भ्रमण के बाद प्रतिभागी पुनः कोठी के लिए रवाना हो गए। इस रैली का उद्देश्य केंद्रीय मंत्रालय द्वारा फ्रीडम टू साइकल चैलेंज में शहर के साइकल चलाने के किलोमीटर बढ़ाना था। रैली के प्रभारी मोहित गुप्ता के अनुसार रैली के कारण करीब 2000 किमी साइकिलिंग की बढ़ोतरी हुई है।

घना कोहरा, भीषण ठंड लेकिन हौसलों में गर्मी। फ्रीडम टू साइकिलिंग चैलेंज जीतने के लिए शहर के साइकिलिंग करने वालों ने रविवार को कोठी से गंभीर डेम और वापसी में 44 किमी साइकिलिंग कर 2000 किमी शहर के खाते में जोड़ दिए। केंद्र सरकार की देश के 75 शहरों के बीच चल रही फ्रीडम टू वॉक और साइकिलिंग चैलेंज स्पर्धा में उज्जैन स्मार्ट सिटी भी शामिल है।

इसमें पांच सौ से ज्यादा पैदल चलने वाले और साइकिलिंग करने वाले नागरिक, युवा, वृद्ध शामिल हैं, जो शहर को जिताने के लिए 1 से 26 जनवरी तक अधिक से अधिक योगदान देने को तत्पर हैं। रविवार को साइकिलिंग में आगे बढ़ने के लिए स्मार्ट सिटी ने कोठी से गंभीर डेम और वापसी की यात्रा का आयोजन किया।

इसमें 62 प्रतियोगियों ने पंजीयन कराया था लेकिन यात्रा शुरू होने के वक्त सुबह 7 बजे 7 वरिष्ठ नागरिक (60 साल या ऊपर उम्र), 13 (18 साल से कम उम्र) किशोर और 24 युवा (18 या ज्यादा उम्र) पहुंचे। कड़कड़ाती ठंड में कोहरे के बीच सुबह 7 बजे रैली को कोठी महल से झंडा दिखाकर गंभीर डेम के लिए रवाना किया। रैली आरटीओ ऑफ़िस चौराहे से इंदौर रोड होकर रिंग रोड से बड़नगर रोड पार कर करीब 9 बजे गंभीर डेम स्थित पीएचई गेस्ट हाउस पहुंची। वहां अल्पाहार और विश्राम के बाद 10 बजे रवाना होकर करीब 12 बजे वापस कोठी पहुंची।

स्वस्तिक गुप्ता का देश में 7वां स्थान

शहर के स्वस्तिक गुप्ता देश में7 वें स्थान पर पहुंच गए हैं। वे 1 से 15 जनवरी तक 900 किमी की साइकिलिंग कर चुके हैं। स्वस्तिक इंजीनियरिंग कर चुके हैं। उन्होंने 2020 में लॉकडाउन से साइकिलिंग शुरू की थी। वे रोज 50 किमी साइकिल चलाते हैं।

कुरुक्षेत्र में हुई नेशनल कॉम्पिटिशन में मप्र का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं। उनका कहना है कि देश में नंबर वन बनने और शहर को जिताने के लिए वे प्रेक्टिस बढ़ा रहे हैं। गुप्ता का कहना है कि शहर के नागरिकों ने पैदल या साइकिलिंग में भाग लिया है तो वे अधिक से अधिक प्रयास करें ताकि शहर को नंबर वन बना सकें।

शनिवार को हेरिटेज वॉक, रविवार को पंचक्रोशी करेंगे

स्मार्ट सिटी अब पैदल चलने में शहर को आगे बढ़ाने के लिए अगले शनिवार 22 जनवरी को हेरिटेज वॉक का आयोजन करेगी। इसमें पैदल चलने वाले प्रतियोगियों को पुराने शहर के दर्शनीय स्थलों का भ्रमण कराया जाएगा। अंकपात से सांदीपनि, मंगलनाथ, सिद्धवट, कालभैरव, गढ़कालिका होकर वापस अंकपात मार्ग लाया जाएगा। इसमें सभी प्रतियोगी पैदल चलेंगे। 23 जनवरी रविवार को साइकिल से पंचक्रोशी यात्रा का आयोजन होगा। 118 किमी की पंचक्रोशी यात्रा साइकिल यात्री दो दिन में पूरी करेंगे। किसी एक पड़ाव पर रात्रि विश्राम की व्यवस्था की जाएगी।

कोहरे में बिछड़ गए प्रतियोगी

सुबह घना कोहरा था। प्रतियोगियों के अनुसार कोहरे के कारण तय रास्ते से कुछ लोग भटक गए और अन्य रास्तों से गंभीर डेम पहुंचे। वहां नाश्ते के बाद फिल्टर प्लांट का अवलोकन किया। पीएचई के राजीव शुक्ला ने फिल्टर प्लांट और जलप्रदाय व्यवस्था की जानकारी दी। निगमायुक्त अंशुल गुप्ता भी प्रतिभागियों से मिलने व मनोबल बढ़ाने मौक़े पर पहुंचे। स्वल्पाहार जीरो वेस्ट की तर्ज़ पर कराया।

भ्रमण के बाद प्रतिभागी पुनः कोठी के लिए रवाना हो गए। इस रैली का उद्देश्य केंद्रीय मंत्रालय द्वारा फ्रीडम टू साइकल चैलेंज में शहर के साइकल चलाने के किलोमीटर बढ़ाना था। रैली के प्रभारी मोहित गुप्ता के अनुसार रैली के कारण करीब 2000 किमी साइकिलिंग की बढ़ोतरी हुई है।

खबरें और भी हैं...