पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Singrauli
  • FIR Lodged Against Tiara's Kotdar In The Matter Of Government Ration Distribution, Alleging Misappropriation Of Five Lakh Rations

खबर का असर:सरकारी राशन वितरण के मामले में तियरा के कोटेदार पर एफआईआर दर्ज, पांच लाख के राशन में हेराफेरी का आरोप

सिंगरौलीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सिंगरौली में हित ग्राहियों का राशन हजम करने वाले कोटेदार के खिलाफ विभाग ने एफआइआर दर्ज कराया है। बताया जा रहा है कि कोटेदार के ओर से 5 लाख रुपए से अधिक के राशन में हेराफेरी पाई गई है। जिसे लेकर खाद्य विभाग के ओर से एफआईआर दर्ज करा दिया गया हैं।

ग्रामीण उपभोक्ताओं ने बताया था कि पिछले फरवरी महीने से कोटेदार पीएम योजना का राशन वितरण नहीं कर रहा है। इस मुद्दे को भास्कर ने लगातार प्रमुखता से प्रकाशित किया। जिसके बाद विभाग के अधिकारियों की नींद टूटी और इस पूरे मामले में बारीकी से जांच कराई गई। शासकीय उचित मूल्य की दुकान कैम्हाडांड़ तियरा में स्टॉक को देखा गया।

इसके बाद पीओएस मशीन को भी चेक किया गया। इस दौरान करीब ढाई सौ क्विंटल राशन की कालाबाजारी उजागर हुई। अधिकारियों ने तत्काल कोतवाली थाने में कोटेदार के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कराया है। वहीं इस पूरे मामले में पुलिस कोटेदार से पूछताछ कर रही है।

पांच लाख रुपए की होगी वसूली

खाद्य विभाग के अधिकारियों ने बताया कि कालाबाजारी किया गया राशन कुल ढाई सौ क्विंटल से अधिक पांच लाख रुपए कीमत का है। कोटेदार प्रवीण दुबे पर इतनी राशि का गबन करने का आरोप लगा है। इसलिए इतनी ही राशि कोटेदार से मय ब्याज वसूल की जाएगी। रकम नहीं देने पर कोटेदार की संपत्ति की नीलामी करने का आदेश है।

लंबे समय से कर रहा था राशन की कालाबाजारी

जांच में यह भी सामने आया है कि कोटेदार लंबे समय से सरकारी राशन की कालाबाजारी करने में लिप्त रहा है। जिससे गांव की जनता को राशन नहीं मिलता था। हक मांगने पर गरीबों को कोटेदार धमकी देता था। वहीं एफआईआर दर्ज होने के बाद जिले के अन्य कोटेदार भी दहशत में हैं।

इस मामले में सिंगरौली डीएम राजीव रंजन मीणा ने बताया कि कोटेदार के खिलाफ राशन वितरण के मामले में कोतवाली थाने में विभिन्न धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज कराया गया है। जिस पर पुलिस आगे की कार्रवाई जारी कर दी हैं।

खबरें और भी हैं...