पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57276.94-1 %
  • NIFTY17110.15-0.97 %
  • GOLD(MCX 10 GM)48432-0.52 %
  • SILVER(MCX 1 KG)62988-1.1 %

अतिक्रमण पर प्रशासन सख्त:मिनी स्मार्ट सिटी बनाने के लिए नगरपालिका ने शुरू की मुहीम, अवैध अतिक्रमण को करेंगे ध्वस्त

सीधी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तैयारियों में जुटा प्रशासन - Money Bhaskar
तैयारियों में जुटा प्रशासन

नगर पालिका परिषद सीधी द्वारा चलाए जा रहे अभियान के तहत मिनी स्मार्ट सिटी को वास्तविकता में चरितार्थ करने हेतु नपाकर्मी पैदल बाजार क्षेत्र का भ्रमण कर सभी दुकानों के सामने चूना डलवाकर उनकी सीमा का निर्धारण कई बार कर चुके हैं। इसके बावजूद कई दुकानदार अपनी राजनैतिक पहुंच और पकड़ के चलते शहर को सुन्दर और अतिक्रमण मुक्त करने में बाधा साबित हो रहे हैं। इन परिस्थतियों में जिला कलेक्टर और प्रशासक नगर पालिका परिषद मुजीबुर्रहमान खान के मिनी स्मार्ट सिटी का सपना वास्तविकता में पूरा होता नहीं दिख रहा है। जबकि, जिला प्रशासन मुहिम आमजनों से मिल रही लगातार शिकायतों को सुलझाने के लिए चलाई गई थी। जिसके माध्यम से नगरवासियों को बाधा रहित सरल और सुगम यातायात व्यवस्था मुहैया हो सके।

125 के विरूद्ध चालानी कार्रवाई
नगर पालिका ने स्वच्छता अभियान को प्रभावी बनाने के लिए चिहिंत दुकानदारों से मिलकर सार्वजनिक स्थलों को अतिक्रमण मुक्त करने की पहल शुरू की गई है। जिसके बाद नगरपालिका और पुलिस ने संयुक्त रूप से पैदल भ्रमण कर 791 दुकानदारों को अतिक्रमण हटाने और नगर को साफ स्वच्छ बनाए रखने की समझाइश दी गई। वहीं नियमों को ताक पर रखकर सार्वजनिक मार्ग को अवरूद्ध करने वाले 125 व्यापारियों के विरूद्ध चालानी कार्रवाई करते हुए जुर्माना बतौर 19,900 रूपए शासन के खाते में जमा किए गए हैं। फुटपाथ और बरामदे पर किए हुए अतिक्रमण के खिलाफ 51 दुकानदारों को नोटिस थमाया गया है।
इस विषय में जिला प्रशासन द्वारा बताया गया कि अतिक्रमणकारियों से कई बार अनुनय विनय किया गया। लेकिन वो पूरी तरह से बेअसर रहा। अब आखरी विकल्प के रूप मे शहर को साफ स्वच्छ करने हेतु प्रशासन का बुलडोजर चलेगा और अवैध अतिक्रमण को ध्वस्त किया जाएगा।

अतिक्रमणकारियों के विरूद्ध मुहिम हुई तेज
सीएमओ नपा सीधी कमला कौल ने बताया कि शहर के ह्दय स्थल पर सोनांचल बस स्टैंड संचालित है। जिसमें कई अव्यवस्थाएं सामने आ रही हैं। यहां एक ओर तो दुकानदारों द्वारा सार्वजनिक स्थल पर अतिक्रमण किया गया है। वहीं, बस स्टैंड के अंदर निर्धारित समय के पहले और बाद में कई बसें घंटो खड़ी रहती हैं। जिससे बाद में आने वाली बसों के यात्रियों को अव्यवस्थाओं का सामना करना पड़ता है।