पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Shahdol
  • The Childless Aunt Said Got The Nephew A Compassionate Job, Not Helping; Instructions Given To End The Compassionate Appointment Of Secretary

शहडोल में जनसुनवाई:नि:संतान चाची बोली- भतीजे को दिलवाई अनुकंपा नौकरी, नहीं कर रहा मदद; सचिव की अनुकंपा नियुक्ति समाप्त करने के दिए निर्देश

शहडोल2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मंगलवार को कमिश्नर की जनसुनवाई में कमिश्नर राजीव शर्मा ने लोगों की समस्याएं सुनी और उनके निराकरण के निर्देश अधिकारियों को दिए। जहां अनूपपुर जिले के ग्राम इटौरा की सुनीता बाई ने आवेदन करते हुए बताया कि मेरी कोई संतान नहीं है। पति ग्राम पंचायत खमरौध जनपद पंचायत पुष्पराजगढ में पंचायत सचिव थे, जिनकी मृत्यु 19 मार्च 2015 को सेवा में रहते हुए हुई थी। पति के स्थान पर उन्होंने अपने जेठ के बेटे यादवेंद्र सिंह को अनुकंपा नियुक्ति दिलाई थी।

यादवेंद्र ने शपथ पत्र देकर आश्वासन दिया था कि वह मेरी और सास की देखभाल करेगा। लेकिन वह किसी प्रकार से कोई देखभाल नहीं करता है, न ही उसकी आर्थिक सहायता करता है। सुनीता बाई ने आर्थिक सहायता दिलाने की मांग की। कमिश्नर ने सीईओ जिला पंचायत अनूपपुर को निर्देश दिया कि वे शिकायत की जांच करें और सही पाए जाने पर पंचायत सचिव यादवेंद्र की अनुकंपा नियुक्ति समाप्त करने की कार्रवाई करें।

अनूपपुर के जैतहरी महार्षि ऐयर सेलुशन के प्रबंधक ने बताया कि कोरोना महामारी के दौरान उन्होंने मेडिकल कॉलेज शहडोल को ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध कराए थे। उपयोग के बाद मेडिकल कॉलेज प्रबंधक ऑक्सीजन सिलेंडर वापस नहीं कर रहा। उन्होंने कहा कि मेडिकल कॉलेज से सिलेंडर वापस दिलाए। कमिश्नर ने मेडिकल कॉलेज प्रबंधक से चर्चा की और आज ही ऑक्सीजन सिलेंडर वापस करने के निर्देश दिए।

शहडोल के जयसिंहनगर जनपद की सदस्य अनुराधा शुक्ला ने शिकायत कर बताया कि जनपद जयसिंहनगर में सीईओ उन्हें बैठकों की जानकारी नहीं देते। इसके अलावा उनके प्रस्तावों पर भी कोई ध्यान नहीं दिया जाता और उनके साथ अच्छा व्यवहार नहीं करते। कमिश्नर ने सीईओ जिला पंचायत को जांच करने के निर्देश दिया है।

ब्यौहारी जनपद पंचायत के लक्ष्मीकांत चतुर्वेदी ने शिकायत कर बताया कि सिविल अस्पताल ब्यौहारी में रोगी कल्याण मद में भ्रष्टाचार किया है। सिविल अस्पताल ब्यौहारी में सुरक्षा गार्ड को सिर्फ 4 हजार रुपए दिए जा रहे हैं। उन्होंने अनियमितताओं की जांच कराने की मांग की। कलेक्टर शहडोल को जांच कर आवश्यक कार्रवाई के निर्देश दिए।

खबरें और भी हैं...