पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शहडोल में एक शख्स ने बांटा आत्मदाह का पर्चा:18 जनवरी को कलेक्ट्रेट कार्यालय के सामने करेगा आत्मदाह, जानें क्या है मामला...

शहडोल4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सोमवार की सुबह शहडोल के चौक चौराहे पर एक व्यक्ति ने अपने आत्मदाह करने का पर्चा लोगों के बीच बांटा है। उक्त व्यक्ति ने शहर की मुख्य सड़कों और चौक चौराहों पर यह पर्चा बांटा है।आत्मदाह का यह पर्चा लोगों के बीच चर्चा का विषय बना हुआ है। शहडोल के घरौला मोहल्ला, वार्ड क्रमांक 10/13 के रहने वाले धर्मदास बारी ने 18 जनवरी को कलेक्ट्रेट कार्यालय के सामने आत्मदाह करने की चेतावनी इस पंपलेट के माध्यम से दी है।

बांटे गए पंपलेट में क्या लिखा..

धर्मदास ने लिखा है कि, लगभग 80 साल पहले बने मकान व बांउड्रीवाल जो कि, घरौला मोहल्ला वार्ड नं.15/20 में है। प्रार्थी के इसी भूमि व मकान कुछ लोगों ने जबरन कब्जा कर लिया है। जबकि उक्त भूमि का प्रकरण रेवेन्यू बोर्ड ग्वालियर में आज भी चल रहा है। साथ ही मेरे द्वारा तहसीलदार के फैसले के खिलाफ एक व्यवहार वाद माननीय न्यायलय में पेश किया। जिस पर कलेक्टर, नजूल अधिकारी, तहसीलदार और राजेश्वरी प्रताप सिंह को पार्टी बनाया गया। जिस पर तीनों अधिकारी के शपथ पत्र के साथ जबाब दावा अनुलग्न व पेश किया गया, जिसमें मेरी भूमि व मकान के साथ बगल की भूमि को शासकीय बताया गया है। साथ ही प्रार्थी का कई सालों पुराना कब्जा बताया गया है।

प्रकरण अभी न्यायलय में चल रहा है, लेकिन 11 जनवरी को राजेश्वरी प्रताप सिंह, अभय प्रताप सिंह, आशीष सिंह, शिवकुमार नामदेव अपने 60-70 सहयोगी व कर्मचारी के साथ बगल के शासकीय भूमि पर कब्जा करने पहुंचे और 12 जनवरी को प्रार्थी के भूमि व भवन पर भी कब्जा कर लिया। ऐसे में जब प्रार्थी ने इसका विरोध किया तो धमकी देने लगे और जेसीबी मशीन से मकान को तोड़कर कब्जा कर लिया। जिसकी शिकायत कलेक्टर, कमिश्नर, एसडीएम, पुलिस अधीक्षक, थाना कोतवाली सहित मुख्यमंत्री, राजस्व मंत्री को की गई है।

18 जनवरी को आत्मदाह करने की धमकी

इस पर धर्मदास का कहना है कि मकान व भूमि पर कब्जा क्यों किया गया, जबकि प्रकरण अभी न्यायालय में चल रहा है। जिस पर शासन ने शासकीय भूमि मानकर बेदखली का आदेश दिया है। प्रार्थी का कहना है कि दस्तावेजों की जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई हो, नहीं तो प्रार्थी 18 जनवरी को जिला कलेक्ट्रेट के सामने आत्मदाह करेगा। जिसकी पूरी जवाबदारी जिला प्रशासन की होगी।

खबरें और भी हैं...