पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Shahdol
  • Collector Issued Show Cause Notice To The Deceased Person, Action Was Taken Due To Delay In Making Ayushman Card

प्रशासन की ये कैसी कार्रवाई:कलेक्टर ने मृत व्यक्ति को जारी कर दिया कारण बताओ नोटिस, आयुषमान कार्ड बनने में देरी के चलते लिया एक्शन

शहडोल2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिलावासियों के बीच एक कारण बताओ नोटिस इस समय चर्चा का विषय बना हुआ है। क्योंकि कलेक्टर वंदना वैद्य के हस्ताक्षर के साथ जारी हुआ ये नोटिस मृत व्यक्ति के लिए जारी हुआ है। इसमें आयुषमान कार्ड बनाने वाले अधिकृत एक जीआरएस को उसके ओर से आईडी एक्टिवेट नहीं करने के चलते कर्तव्य के प्रति घोर उदासीन मानते हुए अगले 7 दिनों में संतोषजनक कार्य नहीं पाए जाने पर, सेवा समाप्ति की सूचना दी गई है। यह नोटिस समीक्षा के दौरान जारी हुआ।

जिस जीआरएस को यह कारण बताओ सूचना पत्र जारी किया गया है, वह कई महीनों पहले ही स्वर्ग सिधार चुके हैं। दरअसल सोहागपुर जनपद के पठरा ग्राम पंचायत में पदस्थ रहे व्यास नारायण पाठक को यह पत्र जारी हुआ है। ऐसे में समीक्षा को लेकर यह सवाल लाजमी है कि आखिरकार इस समीक्षा में यह बात क्यों सामने नहीं आई कि रोजगार सहायक की मृत्यु हो चुकी है?

बल्क में जारी हुआ नोटिस

बता दें कि स्वास्थ्य विभाग के आयुष्मान योजना के नोडल अधिकारी और जिला समन्वयक ने कलेक्टर के सामने भोपाल से मिली उन 266 लोगों की सूची बिना जांच पड़ताल किए प्रस्तुत कर दी, जिनकी आईडी आज तक एक्टिवेट नहीं हुई। कलेक्टर मैडम ने बल्क में सभी को कारण बताओ नोटिस भी जारी कर दिए।

जिला समन्वयक का समन्वय नहीं

दरअसल भोपाल कार्यालय से शहडोल को मिली सूची में जिन 266 सचिव और ग्राम रोजगार सहायक के नाम हैं। उनमें से किसी से भी योजना के जिम्मेदार यदि फोन के माध्यम से ही सही, बात करने का प्रयास करते तो शायद मृत व्यक्ति को नोटिस नहीं जारी होता।

इसलिए आयुष्मान कार्ड बनाने का काम धीमा

स्वास्थ्य विभाग की इस योजना में आयुष्मान कार्ड बनाने की मुख्य जिम्मेदारी कॉमन सर्विस सेंटर के VLEs की होती है। ग्रामीण विकास विभाग के ग्राम रोजगार सहायक इस कार्य में सहयोग कर सकते हैं। गौरतलब है कि यदि VLEs ग्रामीणों का डाटा इकट्ठा करके रोजगार सहायक को उपलब्ध करा दे, तो वह कार्ड बना सकते हैं। सूत्रों की माने तो VLEs ने रोजगार सहायकों को डाटा उपलब्ध नहीं कराया। इस कारण आयुष्मान कार्ड की बनने की गति धीमी है।

ग्रामीण विकास विभाग ने नहीं दी सूची

जिला पंचायत के एडिशनल सीईओ निर्देशक शर्मा ने कहा कि मैं अभी छुट्टी में हूं। आप जिस नोटिस की बात कर रहे हैं, उसमें सचिव एवं ग्राम रोजगार सहायक की सूची हमारे ग्रामीण विकास विभाग ने नहीं दी। बल्कि स्वास्थ्य विभाग ने जो सूची कलेक्टर कार्यालय को प्रस्तुत की होगी, उस आधार पर नोटिस जारी हुई होगी।

मैं स्विकारता हूं अपनी गलती- आयुष्मान योजना जिला समन्वयक

आयुष्मान योजना के जिला समन्वयक शमशीर अली ने कहा कि भोपाल कार्यालय से 266 ऐसे लोगों की सूची भेजी गई थी, जिनकी आईडी अभी तक एक्टिवेट नहीं हुई है। हमने उसी सूची के आधार पर कारण बताओ नोटिस जारी करवाया है। यदि किसी मृत व्यक्ति को नोटिस जारी हुई है तो उसमें मैं अपनी गलती स्वीकार करता हूं।

खबरें और भी हैं...