पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Seoni
  • The Work Of The Tin Shed Being Built For A Long Time Is Still Incomplete, The Dogs Are Pulled Away By The Half burnt Bodies

सिवनी मोक्ष धाम में अव्यवस्था:लंबे समय बन रहा टीन शेड का काम अब भी अधूरा, कुत्ते खिंच ले जाते है अर्ध जले शव

सिवनीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सिवनी जिला मुख्यालय से लगे हुए भैरोगंज से मुंगवानी रोड स्थित मोक्ष धाम में का कार्य लंबे समय से अधूरा पड़ा हुआ है। जिसके कारण लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। टीन शेड का काम भी अधूरा पड़ा है, जहां शव के दाह संस्कार में लोगों को बहुत परेशानी होती है। इस समस्या से क्षेत्रवासियों ने कई बार अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों अवगत कराया है, लेकिन समस्या जस की तस बनी हुई है।

लोगों ने मुक्तिधाम को बनाया रास्ता

ग्रामीणों ने बताया कि मुक्तिधाम परिसर से ही एक स्थान से दूसरे स्थान जाने के लिए दीवार तोड़कर जाते-आते हैं। जिसके कारण मोक्ष धाम में लगाए गए पेड़ पौधे असुरक्षित है। क्षेत्रवासियों और मोक्ष धाम समिति मुंगवानी रोड के पदाधिकारियों ने शीघ्र ही अंतिम संस्कार के लिए बनाए जा रहे अधूरे शेड को पूर्ण किए जाने की मांग शासन प्रशासन से की है।

वहीं इस मामले में दिलीप सच्चानी, नंदलाल आहूजा, संजय प्रथ्यानी, लक्ष्मण गेहलानी, मनोहर प्रेमचंदानी, राजेश आहूजा, राजेश प्रथ्यानी ने बताया कि मोक्ष धाम में असामाजिक तत्व भी सक्रिय हो रहे हैं। एक तरफ की दीवार टूटे होने से लोग मुक्तिधाम के अंदर से ही जाना आना करते हैं। जबकि मोक्ष धाम के बाजू से आवागमन के लिए मार्ग भी बनाया जा सकता है।

कुत्तों के आतंक से परेशान

ग्रामीणों ने बताया कि मोक्ष धाम में आवारा कुत्तों का आतंक भी काफी है। अंतिम संस्कार के बाद जब शोकाकुल स्वजन वापस चले जाते हैं, तो आवारा कुत्ते अधजले शवों के हिस्से को खींचकर बाहर ले आते हैं। मोक्षधाम में बिजली के पोल तो लग गए हैं, लेकिन उनमें लाइट की व्यवस्था नहीं है।

पेड़-पौधे हो रहे नष्ट

मोक्ष धाम से छात्रावास जाने का आम रास्ता होने की वजह से असामाजिक तत्वों का जमावड़ा भी यहां बना रहता है। पिछले 3 सालों से स्टेडियम ग्रुप के पदाधिकारियों ने मोक्ष धाम में लगभग 100 अशोक और फलदार पौधे लगाए हैं। पौधों में सिंचाई करने के लिए उन्हें पानी दूर-दराज लाना पड़ता है।

खबरें और भी हैं...