पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शराब दुकानों में ओवर रेटिंग पर एक्शन:सतना कलेक्टर ने सस्पेंड किए पन्ना नाका और रामपुर की कम्पोजिट शराब दुकानों के लाइसेंस

सतना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिले की दो और शराब दुकानों को मुनाफाखोरी महंगी पड़ी है। ओवर रेटिंग करने पर कलेक्टर व जिला मजिस्ट्रेट सतना ने दो और दुकानों का लाइसेंस एक दिन के लिए निलंबित कर दिया हैं। शहर के पन्ना नाका और जिले के रामपुर की शराब दुकानों के शटर गुरुवार 29 सितंबर को नहीं खुलेंगे।

ओवर रेटिंग और शराब बिक्री का बिल न देने की शिकायत पर आबकारी विभाग ने कंपोजिट मदिरा की पन्ना नाका और रामपुर बाघेलान दुकानों में टेस्ट परचेज कराया था। इन दुकानों में चिह्नित व्यक्तियों को शराब खरीदने भेजा गया था।

खरीददारों को दोनों ही दुकानों में एमआरपी यानी अधिकतम फुटकर बिक्री मूल्य से अधिक कीमत में शराब बेची गई। मांगने पर बिल भी उपलब्ध नहीं कराया गया। इस संबंध में जांच और तस्दीक के बाद आबकारी विभाग ने प्रकरण कलेक्टर के समक्ष प्रस्तुत किया था।

जिस पर एक्शन लेते हुए कलेक्टर अनुराग वर्मा ने कंपोजिट मदिरा दुकान पन्ना नाका और रामपुर बाघेलान का लाइसेंस एक दिन के लिए यानी 29 सितंबर के लिए निलंबित कर दिया है। यह कार्रवाई मदिरा की फुटकर बिक्री की दुकानों एकल समूहों के निष्पादन व्यवस्था वर्ष 2022-23 के निर्देशों व मध्यप्रदेश आबकारी अधिनियम 1915 की शर्तों के उल्लंघन पर की गई है। कंपोजिट मदिरा दुकान रामपुर बघेलान के लाइसेंसी प्रसून सिंह और कंपोजिट मदिरा दुकान पन्ना नाका के लाइसेंसी नागेन्द्र सिंह हैं।

कहां मिली कितनी ओवर रेटिंग

टेस्ट परचेज के दौरान कंपोजिट मदिरा दुकान पन्ना नाका में देसी मदिरा मसाला का एक पाव (180 एमएल) एमआरपी रेट से 19 रुपए अधिक और 100 रुपए में बेचना पाया गया। इसी प्रकार रामपुर बघेलान कंपोजिट मदिरा दुकान में देशी मदिरा प्लेन 57 रुपए के खुदरा विक्रय मूल्य पर 80 रुपए में बिक्री होना पाया गया

किसी भी ग्राहक को रसीद भी नहीं दी जा रही थी। प्रावधान अनुसार लाइसेंसी निलंबन अवधि के लिए कोई भी प्रतिकार पाने या उसके संबंध में चुकाई गई किसी भी फीस या किए गए निक्षेप के प्रतिवेदन का हकदार नहीं होगा। बता दें कि कलेक्टर ने सर्किट हाउस और सोहावल मोड शराब दुकानों के लाइसेंस भी सस्पेंड किए थे।

खबरें और भी हैं...