पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Satna
  • Plantation Was Done Throughout The Day, The Doctor's Report Came Out Positive In The Evening, Infection Also Entered The Cement Factory

सतना में पटवारी समेत 42 नए केस:दिन भर कराते रहे पौधरोपण शाम को पॉजिटिव निकली डॉक्टर की रिपोर्ट, सीमेंट फैक्ट्री में भी घुसा संक्रमण

सतना4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिले के सबसे बड़े अस्पताल के डॉक्टर दिन भर पौध रोपण कराते रहे लेकिन जब शाम को कोरोना टेस्टिंग की रिपोर्ट आई तो न केवल डॉक्टर बल्कि उनके साथ कार्यक्रम में रहे अन्य डॉक्टरों के भी होश उड़ गए। डॉक्टर की टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आई। शनिवार को सतना में कोरोना के 42 नए मामले सरकारी तौर पर सामने आए हैं। उधर निजी तौर पर हुई जांचों में एक पटवारी संक्रमित पाया गया है जबकि सीमेंट प्लांट में भी वायरस ने एंट्री कर ली है।

स्वास्थ्य विभाग द्वारा दो दिन बाद शनिवार को जारी किए गए डेली हेल्थ बुलेटिन के अनुसार सतना जिले में शनिवार को कोरोना के 42 नए पॉजिटिव केस मिले हैं। सरकारी आंकड़ों को माने तो जिले में फिलहाल 166 एक्टिव केस हैं। इनमें निजी नर्सिंग होम और लैब में हो रही जांच के आंकड़े शामिल नही हैं। बता दें कि तीन दिन पहले तक सतना में औसतन 10 केस रोजाना मिल रहे थे लेकिन गुरुवार से यह संख्या बढ़ी है। गुरुवार को 55, शुक्रवार को 27 और शनिवार को 42 केस मिले हैं।

पटवारी संक्रमित, सीमेंट प्लांट में भी 5 केस

सरकारी तौर पर हो रही जांच और देर से सही लेकिन जारी किए जा रहे आंकड़ों के इतर कोरोना संक्रमण के नए मामले निजी रूप से कराई जा रही जांच में भी मिल रहे हैं। शहर के एक नर्सिंग होम में जांच के बाद एक चर्चित पटवारी की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसी तरह मैहर के भरौली स्थित सीमेंट प्लांट में भी 5 पॉजिटिव केस मिले हैं। संक्रमितों को प्लांट प्रबन्धन ने आइसोलेशन में भेज दिया है।

प्रशासन अभी तक वह सिस्टम तैयार नहीं कर पाया है जिसके जरिए उस तक निजी नर्सिंग होम और लैब में हो रही टेस्टिंग की जानकारी पहुंच सके। पूर्व में तत्कालीन कलेक्टर अजय कटेसरिया ने यह प्रबन्धन किया था।

दो दिन बाद जारी हुआ बुलेटिन

सतना में सीएमएचओ कार्यालय डेली हेल्थ बुलेटिन को लेकर भी संजीदा नही है। एपिडेमियोलॉजिस्ट के पास फुरसत नहीं है और बुलेटिन बनाने का जिम्मा संभालने वाले बाबू सुनील दुबे से सीएमएचओ भी काम लेने से कतराते हैं। कई दिन तक बुलेटिन नही जारी होता।

खबरें और भी हैं...