पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सतना में नवरात्रि पर श्रीमद्भागवत कथा:व्यंकटेश मंदिर में बाल विदुषी पलक किशोरी ने बरसाया ज्ञानामृत, भजनों पर झूमे श्रद्धालु

सतना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सतना शहर के व्यंकटेश मंदिर परिसर में श्रीमद भागवत कथा का शुभारंभ नवरात्रि के प्रथम दिवस सोमवार को भव्य कलश यात्रा के साथ हुआ। बाल विदुषी पलक किशोरी जी ने श्रोताओं को अपनी कथा व प्रवचन से मंत्रमुग्ध कर दिया। भजनों को सुनकर श्रद्धालु भक्ति भाव मे विभोर हो कर झूमने लगे।

प्रथम दिवस की कथा में बाल विदुषी पलक किशोरी ने व्यंकटेश मंदिर के महत्व और इतिहास पर प्रकाश डालते हुए भक्ति की शक्ति से श्रद्धालुओं को परिचित कराया। उन्होंने बताया कि मनुष्य को केवल सच्चा सुख भगवान की सेवा से ही मिल सकता है। सांसारिक सुख केवल क्षणिक होता है, जबकि भगवान की भक्ति से जन्म-जन्म तक सुख प्राप्त होता है। यह आयोजन वेंकटेश भगवान भक्त मंडल समिति द्वारा किया जा रहा है, जिसके मुख्य यजमान नगर निगम के प्रभारी अतिक्रमण अधिकारी रमाकांत शुक्ला के पुत्र सत्यम शुक्ला हैं।

निकाली गई भव्य कलश यात्रा

भगवान व्यंकटेश मंदिर से आयोजन समिति ने भव्य कलश यात्रा निकाली। बग्घी पर सवार होकर निकलीं बाल विदुषी पलक किशोरी ने शहरवासियों का अभिवादन स्वीकार किया। इस दौरान 101 महिलाएं अपने सर पर कलश लेकर एक जैसी वेश-भूषा में शामिल हुईं।

जगह जगह हुआ स्वागत

डीजे एवं बैंड पार्टी के साथ धूमधाम से निकली कलश यात्रा का शहर में जोरदार स्वागत किया गया। स्वागत का दौर वेंकटेश मंदिर परिसर से शुरू हुआ। स्वामी चौक के पास पूर्व पार्षद भास्कर चतुर्वेदी, बरदाडीह चौक में बरूण शर्मा ने स्वागत किया। डायवर्सन रोड में कलकत्ता फ्लावर के पास, नगर निगम कार्यालय के पास अधिकारी कर्मचारियों के नेतृत्व में तो विन्ध्य चेम्बर भवन के पास श्रद्धालुओ ने पलक किशोरी जी का स्वागत किया।

आकर्षण का केंद्र रहे कान्हा जी

श्रीमद भागवत कथा के दौरान बरदाडीह निवासी एक महिला भक्त अपने साथ कान्हा जी का बालरूप लेकर पहुंची थी। जिन्हें देखकर स्वयं कथा वाचक पलक किशोरी एवं वहां मौजूद तमाम श्रोतागण खुश हो गए। कई श्रोताओं ने तो कान्हा जी को अपनी गोद में लेकर फोटो भी खिंचवाए।

खबरें और भी हैं...