पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भदनपुर स्टेशन पर छात्रों का उपद्रव, पथराव, VIDEO:बैडमिंटन चैंपियनशिप में शामिल होने जा रही छात्रा घायल, धंस गए कांच के टुकड़े

सतना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

एक्सीलेंस स्कूल मैहर के छात्रों ने भदनपुर स्टेशन पर उत्पात मचाते हुए शटल पर पथराव कर दिया। सोमवार को हुई इस घटना में स्टेट बैडमिंटन चैंपियनशिप में शामिल होने जा रही एक छात्रा गंभीर रूप से घायल हो गई। इसके बाद छात्रा को बीच रास्ते से वापस लौटना पड़ा। वहीं, अन्य यात्रियों को ​​​​​भी ​​चोटें आई है।

चेहरे पर चोटें आईं और कांच के टुकड़े भी धंस गए

जानकारी के मुताबिक छिंदवाड़ा में स्टेट लेवल बैडमिंटन चैंपियनशिप आयोजित की जा रही है। जिसमें रीवा संभाग की टीम में शामिल सतना के विट्स स्कूल की छात्रा सुदृष्टि चतुर्वेदी शामिल होने जा रही है। इस दौरान भदनपुर स्टेशन पर मैहर एक्सीलेंस स्कूल का छात्रों ने उपद्रव कर पत्थरबाजी कर दी। इससे गंभीर रूप से घायल हो जाने के कारण सुदृष्टि को अमदरा स्टेशन पर उतार कर वापस सतना लौटना पड़ा। उसके तीन दांत टूट गए, चेहरे पर चोटें आईं, और कांच के टुकड़े भी धंस गए।

भदनपुर स्टेशन की घटना

व्यंकट क्रमांक 1 स्कूल के पदस्थ सुदृष्टि के शिक्षक पिता उदय चतुर्वेदी ने बताया कि रीवा संभाग की तरफ से उनकी बेटी का चयन अंडर 14 बैडमिंटन टीम में स्टेट लेवल चैंपियनशिप के लिए हुआ था। सोमवार को टीम सतना स्टेशन से शटल से जबलपुर के लिए रवाना हुई थी, जहां से उन्हें छिंदवाड़ा जाना था लेकिन मैहर के आगे भदनपुर स्टेशन पर मैहर एक्सीलेंस स्कूल के छात्रों के गुटों में झगड़ा शुरू हो गया। इस झगड़े के बीच एक गुट ने भदनपुर स्टेशन पर बार-बार चेन पुलिंग कर ट्रेन को रोके रखा और मारपीट करने लगे। उनसे बचने के लिए जब दूसरे गुट के लड़के ट्रेन में चढ़ गए तो नीचे खड़े लड़कों ने पथराव शुरू कर दिया। बैडमिंटन टीम के खिलाड़ियों के साथ उनकी बेटी सुदृष्टि ट्रेन की डी 1 बोगी में बैठी थी। बचाव के लिए उन्होंने खिड़की का कांच बंद कर लिया था लेकिन बाहर से तेजी से फेंके जा रहे पत्थरों से कांच टूट गया और पत्थर सुदृष्टि के मुंह पर सीधे आ लगे।

पिता बोले- वह बोल पाने की स्थिति में नहीं

छात्रा के पिता के मुताबिक बेटी के सामने वाली सीट पर मैडम पांडेय बैठी हुई थीं। पत्थर लगते ही सुदृष्टि के मुंह से खून बहने लगा लेकिन तब तक ट्रेन भदनपुर स्टेशन छोड़ चुकी थी लिहाजा सुदृष्टि को अमदरा स्टेशन पर उतार लिया गया। मैडम पांडेय ने अपने पति और क्राइस्ट ज्योति स्कूल के स्पोर्ट्स टीचर के जरिए घटना की जानकारी सुदृष्टि के पिता को दी। हेल्प लाइन नंबर 139 पर भी घटना की सूचना दी गई। सुदृष्टि को अमदरा से मैहर और फिर वहां से सतना ले आया गया। सुदृष्टि के पिता उदय चतुर्वेदी ने बताया कि उसके चेहरे पर कई टांके लगे हैं। वह बोल पाने की स्थिति में भी नहीं है।

खबरें और भी हैं...