पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

व्यंकटेश मंदिर में श्रीमद् भागवत कथा सप्ताह:बाल विदुषी पलक किशोरी ने कहा- प्रभु की भक्ति से बड़ी नहीं है कोई शक्ति

सतना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नवरात्रि के अवसर पर शहर के मुख्त्यारगंज स्थित व्यंकटेश मंदिर प्रांगण में आयोजित श्रीमद् भागवत कथा के तीसरे दिन बाल विदुषी पलक किशोरी ने श्रोताओं को भक्ति की शक्ति से परिचित कराते हुए भक्त प्रह्लाद की कथा श्रवण कराई।

सुश्री पलक किशोरी ने बताया कि कैसे राक्षस हिरण्य कश्यप अपने पुत्र को दैत्य शिक्षा दिलाना चाहता था, लेकिन प्रहलाद सदैव भगवान नारायण की भक्ति में डूबे रहते थे। कथा विस्तार करते हुए बाल विदुषी ने श्रद्धालुओं को बताया कि हिरण्य कश्यप दैत्य गुरु शुक्राचार्य से अपने पुत्र प्रहलाद को शिक्षित करने का आग्रह करते है। लेकिन यह जिम्मेदारी शुक्राचार्य अपने दो पुत्रों शन्य और अमर को सौंपते हैं।

इन दोनों गुरुओं के साथ जब प्रहलाद उनके आश्रम पहुंचते है और मंदिर में अपने पिता की मूर्ति देखते हैं तो वे उन्हें ईश्वर मानने से इंकार कर देते हैं। तभी प्रहलाद एक पेड़ की टहनी देख कर कहते हैं कि आपके ईश्वर हिरण्य कश्यप में यदि शक्ति है, तो वे टहनी को जोड़कर दिखाएं।

ये सुनने के बाद शुक्राचार्य के पुत्र भक्त प्रह्लाद से पूछते है कि क्या आपके ईश्वर इन टहनियों को जोड़ देंगे? उत्तर में भक्त प्रह्लाद ने भगवान विष्णु का स्मरण किया जिसके बाद कटी टहनियां आपस में पुनः जुड़ गई। बाल विदुषी पलक किशोरी ने श्रद्धालुओं को हिरण्य कश्यप वध की भी कथा सुनाई। इस प्रसंग का मंच से नाट्य मंचन भी किया गया।

धूमधाम से आज मनेगा श्रीकृष्ण जन्मोत्सव

श्रीमद् भागवत कथा सप्ताह के चतुर्थ दिवस गुरुवार को श्री कृष्ण जन्मोत्सव की कथा सुनाई जाएगी। यहां देवकी नंदन के जन्म का उत्सव मनाए जाने की विशेष तैयारी की गई है। आयोजन समिति ने सभी श्रोताओं से अपील की है कि सभी लोग इस दिन पीले कपड़े पहनकर कथा स्थल पर कथा स्थल पर पहुंचें। बता दें कि व्यंकटेश मंदिर प्रांगण में कथामृत की वृष्टि प्रतिदिन दोपहर 3 बजे से शाम साढ़े 6 बजे तक हो रही है।

खबरें और भी हैं...