पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Satna
  • Attempted Kidnapping, Saved Life By Jumping Out Of A Car; Police Did Not Write FIR Even After Sitting For 5 Hours

सतना में खाद्य सुरक्षा अधिकारी से मारपीट:अपहरण की कोशिश, गाड़ी से कूद कर बचाई जान; पांच घंटे थाने में बैठने के बाद भी नहीं लिखी FIR

सतना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गाड़ी से कूदने के बाद ग्रामीणों की सुरक्षा के बीच अधिकारी

सतना जिले में अमरपाटन के एक ढाबे में खाद्य सुरक्षा अधिकारी के साथ मंगलवार को मारपीट की गई। ढाबा संचालक और उसके साथियों ने खाद्य सुरक्षा अधिकारी और उनके सहयोगी के अपहरण की कोशिश की गई। अधिकारी और उनके सहयोगी को आरोपियों की गाड़ी से कूद कर अपनी जान बचाई। ग्रामीणों की शरण लेने पर उनकी जान बची। खाद्य सुरक्षा अधिकारी की इसकी शिकायत करने थाने पहुंचे तो पुलिस ने उन्हें 5 घंटे तक थाने में बैठाए रखा। इसके बाद भी अमरपाटन पुलिस ने एफआईआर दर्ज नहीं की।

रामनगर और अमरपाटन क्षेत्र में पदस्थ खाद्य सुरक्षा अधिकारी नीरज विश्वकर्मा ने बताया कि वे सरकारी काम से रामनगर क्षेत्र का भ्रमण कर अपने साथी शाहिद के साथ लौट रहे थे। बाइपास स्थित गुंडा स्वामी उर्फ गौतम के स्वामी ढाबा पर चाय पीने के लिए रुके। उस वक्त वहां तीर्थ यात्री भोजन कर रहे थे। उन्होंने कर्मचारी से ढाबा संचालक के बारे में पूछा तो वह उसके पास ले गया। ढाबा संचालक से हाल पूछते ही वह भड़क कर गाली गलौज और मारपीट करने लगा। इसमें उसके कई और साथी भी शामिल हो गए।

शिकायती आवेदन।
शिकायती आवेदन।
खाद्य सुरक्षा अधिकारी नीरज विश्वकर्मा।
खाद्य सुरक्षा अधिकारी नीरज विश्वकर्मा।
थाना में थाना प्रभारी के सामने बैठ कर शिकायत लिखते खाद्य सुरक्षा अधिकारी।
थाना में थाना प्रभारी के सामने बैठ कर शिकायत लिखते खाद्य सुरक्षा अधिकारी।

अगवा करने की कोशिश की

मारपीट के बाद उन्होंने हम दोनों को एक गाड़ी में जबरिया बैठा लिया और कहीं ले जाने लगे। प्रतापगढ़ी जुड़मनिया के पास गाड़ी कीचड़ में फंस गई तो हम दोनों कूद कर भाग निकले। कुछ दूर पर कुछ ग्रामीण बैठे थे, उनके पास पहुंच कर घटना बताई तो उन्होंने सुरक्षा की। इसके बाद डायल 100 को सूचना दी। सूचना मिलने पर पहुंची डायल 100 की टीम उन्हें अमरपाटन थाना ले आई। खाद्य सुरक्षा अधिकारी ने अमरपाटन टीआई संदीप भारती को घटनाक्रम की मौखिक और लिखित जानकारी दी। थानेदार ने नीरज को पांच घंटे थाना में बैठाए रखा, लेकिन इस मामले में FIR दर्ज नहीं की।

जिस वक्त खाद्य सुरक्षा अधिकारी शिकायत दर्ज कराने थाना प्रभारी के कक्ष में बैठे हुए थे। उसी वक्त आरोपी ढाबा संचालक गुंडा स्वामी भी वहां आया था। उसने नीरज विश्वकर्मा को वहां भी धमकाया, जिसके बाद थाना प्रभारी भी द्विपक्षीय शिकायत की बात करने लगे। बाद में खाद्य सुरक्षा अधिकारी से आवेदन लेकर उनको थाने से चलता कर दिया। खाद्य सुरक्षा अधिकारी ने घटना की जानकारी अपने प्रादेशिक संगठन को दे दी है। संगठन ने इस मामले में कार्रवाई की मांग की है। इस मामले में पुलिस अफसरों ने आधिकारिक तौर पर तो फिलहाल चुप्पी साध रखी है।

खबरें और भी हैं...