पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

टीकमगढ़ के 10 हजार बच्चों ने छोड़ा स्कूल:कोरोना की वजह से हुए दूर, वैक्सीनेशन के दौरान उजागर हुआ मामला, शिक्षा विभाग मौन

टीकमगढ़4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना संक्रमण के बाद से प्रभावित हुई शिक्षा का बच्चों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है। पिछले दो सालों में 10 हजार से अधिक बच्चे स्कूल छोड़ चुके है। मामला तब सामने आया जब प्रशासन ने 15 से 18 साल के बच्चों का वैक्सीनेशन कराने के लिए शिक्षा विभाग को जिम्मेदारी सौंपी।

मामला सामने आने के बाद अब विभाग के अधिकारी बात करने से भी कतरा रहे हैं। इसका मुख्य कारण कोरोना के बाद से पैदा हुई समस्याओं को बताया जा रहा है। कुछ परिवार जहां बच्चों के साथ रोजी-रोटी के लिए पलायन कर गए है, तो कुछ परिवार की बेपटरी हुई आर्थिक स्थिति को सुधारने में मदद के लए काम करने लगे।

वैक्सीनेशन में सामने आई हकीकत

इतनी अधिक संख्या में बच्चों का स्कूलों से दूर होने का मामला वैक्सीनेशन के चलते सामने आया। 15 से 18 साल के बच्चों का वैक्सीनेशन कराने के लिए शासन के निर्देशन पर शिक्षा विभाग की मदद ली जा रही है। जिले में 60 प्रतिशत के लगभग वैक्सीनेशन पूरा होने के बाद जब यह रुक सा गया तो प्रशासन ने शिक्षा विभाग को इसके लिए प्रयास करने को कहा, ऐसे में विभाग ने यह जानकारी दी।

टीकमगढ़ में सबसे बच्चों ने छोड़ी पढ़ाई

विभाग द्वारा दिए गए आंकड़ों में बताया गया है कि सबसे अधिक स्कूल छोड़ने वाले बच्चें टीकमगढ़ विकासखंड में है। यहां ग्रामीण क्षेत्रों में 2392 तो नगरीय क्षेत्रों में 1013 बच्चों ने पढ़ाई छोड़ दी है। इसके बाद जतारा ब्लॉक के ग्रामीण अंचलों में 3086 तो नगरीय क्षेत्रों में 295, पलेरा के ग्रामीण क्षेत्रों में 2209 व नगरीय क्षेत्रों में 179, बल्देवगढ़ के ग्रामीण क्षेत्रों में 2651 और शहरी क्षेत्रों में 273 बच्चों ने पढ़ाई छोड़ दी है। इस मामले में जिला शिक्षाधिकारी अमरचंद्र वर्मा से बात करनी चाही तो उन्होंने फोन नहीं उठाया।

खबरें और भी हैं...