पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सागर में कोरोना का कौन-सा वैरिएंट पता नहीं:जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजे गए 29 सैंपलों की नहीं आई रिपोर्ट, मरीज स्वस्थ होकर घर लौटे

सागर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो। - Money Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो।

कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन की दहशत बढ़ती जा रही है। सागर शहर में लगातार नए कोरोना पॉजिटिव मरीज मिल रहे हैं। इसके बाद भी सागर से पिछले महीने नए वैरिएंट की जांच के लिए जीनोम सीक्वेंसिंग भेजे गए 29 सैंपल की रिपोर्ट अभी तक स्वास्थ्य विभाग को नहीं मिली है। मप्र के किसी भी सरकारी मेडिकल कॉलेज में जीनोम सीक्वेंसिंग जांच की सुविधा नहीं होने से भी यह हालत बन रहे हैं। सैंपल जांच के लिए दिल्ली व अन्य राज्यों में भेजे जा रहे हैं।​​​​​

माइक्रोबायोलॉजी लैब के अनुसार 15 दिसंबर के पहले 15 लोगों के सैंपल जीनोम सीक्वेंसिंग जांच के लिए भेजे गए थे। इसके बाद 31 दिसंबर को 14 और लोगों के सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे थे। लेकिन अब तक जीनोम सीक्वेंसिंग से जांच रिपोर्ट नहीं मिली है। वहीं जिन लोगों के सैंपल जांच के लिए भेज गए वे मरीज स्वस्थ होकर अपने घर लौट गए हैं।
सागर में कोरोना का कौन-सा वैरिएंट पता नहीं
कोरोना की तीसरी लहर में सामने आ रहे मरीज कौन से वैरिएंट से संक्रमित हो रहे हैं अब तक इसकी पुष्टि नहीं हुई है। क्योंकि दूसरी लहर में कोरोना का डेल्टा वैरिएंट था। वहीं तीसरी लहर में कोरोना का नया वैरिएंट ओमिक्रॉन आया है। लेकिन जीनोम सीक्वेंसिंग से सैंपलों की रिपोर्ट नहीं आने वैरिएंट की पुष्टि नहीं हो सकी है। अब तक सागर में ओमिक्रॉन वैरिएंट से संक्रमित एक भी मरीज नहीं मिला है।