पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

एमआईसी में 6 को मिली जगह:पहली बार के 3 पार्षद, पीडब्ल्यूडी रेखा को, तिवारी को राजस्व, अभी 4 पद खाली

सागरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Money Bhaskar
फाइल फोटो

महापौर संगीता सुशील तिवारी ने अपनी काउंसिल यानी एमआईसी के नाम घोषित कर दिए हैं। हालांकि 10 की जगह पहली बार में 6 नाम ही घोषित किए हैं। 4 पद खाली रखे गए हैं। एमआईसी में कंचन सोमेश जड़िया, रेखा नरेश यादव, विनोद तिवारी, रूपेश यादव, धर्मेंद्र गुड्डा खटीक और अनूप उर्मिल को शामिल किया गया है। पहली बार पार्षद बने 3 चेहरों को एमआईसी में जगह दी गई है। जबकि तीन वरिष्ठ पार्षदों को शामिल किया गया है। एमआईसी के कुछ नाम चौंकाने वाले भी हैं।

सबसे महत्वपूर्ण और सबसे ज्यादा बजट वाला विभाग लोकनिर्माण और उद्यान (पीडब्ल्यूडी) रेखा नरेश यादव को दिया गया है। पूर्व निगम अध्यक्ष और वरिष्ठ पार्षद विनोद तिवारी को राजस्व विभाग सौंपा गया है। दोनों ही पार्षद पीडब्ल्यूडी मंत्री गोपाल भार्गव के खेमे के हैं। मंत्री भूपेंद्र सिंह के कोटे से कंचन सोमेश जड़िया को सामान्य प्रशासन विभाग का जिम्मा दिया गया है। विधायक शैलेंद्र जैन के खेमे से धर्मेंद्र गुड्डा खटीक और अनूप उर्मिल को शामिल किया गया है। उर्मिल खनिज विकास निगम के उपाध्यक्ष राजेंद्र सिंह मोकलपुर के भी करीबी हैं। धर्मेंद्र को योजना एवं सूचना प्रौद्योगिकी विभाग दिया गया है।

जबकि उर्मिल को शहरी गरीबी उपशमन विभाग का जिम्मा दिया गया है। मंत्री गोविंद सिंह राजपूत के खेमे से एमआईसी में शामिल हुए रूपेश यादव को यातायात एवं परिवहन विभाग दिया गया है। एमआईसी के 4 पद संतुलन को बनाए रखने की रणनीति से भी खाली छोड़े गए हैं। दरअसल, एमआईसी में शामिल होने के लिए पहली से लेकर दूसरी और तीसरी बार के कई पार्षद जद्दोजहद कर रहे थे। इन सब के चलते काफी खींचातानी मची थी।

पहले पार्टी संगठन ने विचार किया था कि पहली बार के एक या दो चेहरों को ही एमआईसी में शामिल किया जाएगा। ऐनवक्त पर निर्णय लिया गया कि पूर्व में शामिल कुछ लोगों को ही एमआईसी में जगह दी जाए और नए चेहरों को भी पर्याप्त जगह दी जाए। इसकी एक वजह यह भी है कि भाजपा के 40 में से 28 पार्षद पहली बार चुनाव जीते हैं। एमआईसी के बचे हुए 4 पदों में शामिल होने के लिए बाकी के पार्षद अपने नेताओं के दरबार में हाजिरी लगाएंगे।

खबरें और भी हैं...