पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

घटिया निर्माण:पांच साल पहले बनाया गया मॉडल स्कूल भवन हुआ क्षतिग्रस्त

हटा4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मॉडल स्कूल के दो मंजिला भवन में पांच साल से केंद्रीय विद्यालय संचालित है। मॉडल स्कूल भवन का निर्माण पेटी कांट्रेक्टर द्वारा घटिया सामग्री से किया गया है। जिसकी पोल अब खुलने लगी है। भवन अधूरा ही था कि केंद्रीय विद्यालय का प्रस्ताव मिलने पर तत्कालीन कलेक्टर द्वारा मॉडल स्कूल भवन का चयन केंद्रीय विद्यालय की कक्षाओं के लिए किया गया था, तब जल्दबाजी में अधूरा निर्माण पेटी ठेकेदार ध्रुव सिंह लोधी एवं गोपाल चौरसिया हिंडोरिया द्वारा किया गया था। जिससे कार्य की गुणवत्ता भी प्रभावित हो गई है।

भवन का बाहरी फर्श क्षतिग्रस्त हो गया है। करीब छह-छह इंच फर्श धस गया है, बाथरूम की टाइल्स निकल रही है, बेस गिट्‌टी में लापरवाही के कारण टाइल्स रिपेयर नहीं हो पा रहे हैं। सभी बाथरूम के बाहर वाॅश एरिया की फर्श धंस गई है। दरवाजे टूट कर अलग हो रहे हैं। दीवारों का प्लास्टर गिर रहा है। ऐसे में मॉडल स्कूल की बिल्डिंग 50 साल पुरानी बिल्डिंग से ज्यादा खराब हालत में दिख रही है। हालांकि केंद्रीय विद्यालय के पालक संघ ने कुछ राशि एकत्रित कर बरामदा, प्रेयर ग्राउंड, क्लास रूम की रिपेयरिंग के अलावा छत पर भी लीकेज सुधार का कार्य कराया है। इसके बावजूद भवन में कार्य बाकी रह गया है। इस संबंध में केंद्रीय विद्यालय के प्रभारी प्राचार्य नारायण सिंह लोधी का कहना है केंद्रीय विद्यालय दूसरे की बिल्डिंग के रिपेयर के लिए राशि स्वीकृत नहीं करता। एक्सीलेंस स्कूल के प्राचार्य राघवेंद्र पाठक का कहना है कि जो बिल्डिंग का उपयोग कर रहा है सुधार उसी को कराना चाहिए। ज्यादा बड़ा काम निकलेगा तो स्कूल शिक्षा विभाग से राशि की मांग की जाएगी। महत्वपूर्ण यह है कि जिस ठेकेदार ने पांच वर्ष पूर्व पेटी पर काम लेकर माॅडल स्कूल बिल्डिंग बनाई थी। वही ठेकेदार वर्तमान में केंद्रीय विद्यालय की बिल्डिंग का निर्माण कर रहा है।

खबरें और भी हैं...