पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लापरवाही बढ़ा रही संक्रमण:कोर्ट के 14 कर्मचारी और एक एडीपीओ सहित 41 पॉजिटिव

दमोह4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिले में कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। एक पखवाड़ा के दौरान मरीजों का आंकड़ा 408 पर पहुंच गया है। इसके बावजूद लापरवाही बरती जा रही है। रविवार को एक साथ कोर्ट में 14 कर्मी और एक एडीपीओ पॉजिटिव मिलने पर सख्ती दिखाई गई है। प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। केवल अब आभासी सुनवाई होगी।

इधर प्रशासन द्वारा भी कोई सख्ती नहीं दिखाई जा रही है। स्थानीय लोग खुलेआम बिना मास्क लगाए बाजारों में घूम रहे हैं। दुकानों पर भी कोरोना गाइड लाइन का पालन नहीं हो रहा है। तीसरी लहर में सबसे ज्यादा संक्रमण फैल रहा है, लेकिन इस बाद दुकानों के सामने गोलेे भी नहीं बनाए गए हैं। रोको-टोक अभियान भी महज औपचारिकता निभाई जा रही है। शनिवार को जिले भर में महज 34 लोगों पर ही चालानी कार्रवाई की गई, जबकि जिले भर में लगाई जा रही मेलों में हजारों की संख्या में लोग बिना मास्क लगाए देखे जा रहे हैं।

गार्डलाइन निवासी एक डॉक्टर भी पॉजिटिव
सीएमएचओ डॉ. संगीता त्रिवेदी ने बताया कि रविवार को कोरोना के 41 केस सामने आए हैं। इनमें विवेकानंद नगर दमोह से 1, बड़ा पुल दमोह से 1, सिविल वार्ड 4 दमोह से 1, महावीर वार्ड दमोह से 1, जबलपुर नाका दमोह से 1, धरमपुरा वार्ड दमोह से 1, फुटेरा वार्ड नं 2 दमोह से 1, खजरी मुहल्ला दमोह से 1, गार्ड लाइन दमोह से 1, वर्धमान कॉलोनी दमोह से 1, हिंडोरिया से 1, सिंगौरगढ़ से 1, वार्ड नं 14 हिंडोरिया से 1, खिरिया मंडला से 2, सदगुवा से 4, वार्ड नंबर एक पथरिया से 1, टीला से 1, वार्ड नंबर छह पथरिया से 1, ‍किशनगंज से 4, जबेरा से 3, सिंग्रामपुर से 1, बटियागढ़ से 1, हटा से 2, शोभानगर दमोह से 1, रेलवे कॉलोनी दमोह से 1, राजीव गांधी कॉलोनी दमोह से 1, गैसाबाद से 1, मुड़ा से 1 मरीज, सहित तीन अन्य मरीज शामिल हैं। इधर तीन दिन पहले कोर्ट में कोविड टेस्ट के लिए शिविर लगाया गया। जिसमें कई सैंपल पॉजिटिव आए हैं। ऐसी में सोमवार से कोर्ट में सख्ती देखने को मिलेगी। शहर में अब तक पांच डाक्टर कोरोना पॉजिटिव निकल चुके हैं।

मेलों पर प्रतिबंध के बावजूद भी हजारों लोग पहुंचे
शासन द्वारा सभी मेलों पर पहले से ही प्रतिबंध लगा दिया गया है, इसके बावजूद भर में मेलों का आयोजन किया गया। जिनमें हजारों लोगों की भीड़ देखी गई। किशनदास देवरी, बमीठाधाम, खड़ेरी, हथना सिद्धधाम, सतधरू डेम के पास, खर्राघाट सहित अन्य स्थानों पर बीते साल की तरह मेले भरे। इन मेलों में अधिकांश लोग एवं दुकानदार बिना मास्क लगाए ही घूमते नजर आए, लेकिन इन्हें रोकने-टोकने वाला कोई नहीं था।

निर्देश के बाद भी स्टेशन पर नहीं हो रही स्क्रीनिंग
रेलवे स्टेशन पर लापरवाही बरती जा रही है। दो दिन पहले कलेक्टर द्वारा कहा गया था कि स्टेशन पर स्वास्थ्य विभाग की टीम तैनात रहेगी, लेकिन अब तक स्टेशन पर कोई भी टीम नहीं पहुंची है। जबकि प्रतिदिन बड़ी संख्या में महानगरों से यात्री दमोह आ रहे हैं। जिनकी स्क्रीनंग, न ही सैंपलिंग हो रही है। दूसरी ओर आरपीएफ व जीआरपी के जवान भी यात्रियों को मास्क एवं सोशल डिस्टेंस का पालन करने की हिदायत नहीं दे रहे।

दुकानों के बाहर नहीं बने गोले, एक दुकान पर 15 से 20 लोग खड़े हो रहे
बाजार में इस बार दुकानों के बाहर न तो गोले बनाए गए हैं न कोई रस्सी लगाई गई है। जिससे दुकानों पर एक साथ 15 से 20 लोगों के झुंड खड़े होकर खरीददारी कर रहे हैं। मोबाइल दुकान, कपड़ा दुकानों पर जमकर लापरवाही बरती जा रही है। जिला अस्पताल के सामने स्थित एक मेडिकल दुकान पर भी सोशल डिस्टेसिगं का पालन कराने गोले तक नहीं बनाए गए।

लोगों को स्वयं ही जागरूक होना पड़ेगा
^हम लोग पहले से बता रहे है इस बार संक्रमण तेजी से फैल रहा है, इसलिए लोगों को स्वयं ही अपनी सुरक्षा के लिए सतर्क एवं सावधानी बरतनी चाहिए। रेलवे स्टेशन पर सुबह 3 से 8 बजे के बीच दिल्ली एवं मुंबई से ट्रेनें आ रहीं हैं। दो दिन हमारी टीम वहां गई थी। रेलवे प्रशासन को भी हमारी टीम की मदद करना चाहिए, उनके पास भी स्वयं का स्टाफ है।
- डॉ. संगीता त्रिवेदी, सीएमएचओ

खबरें और भी हैं...