पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX61350.260.63 %
  • NIFTY18268.40.79 %
  • GOLD(MCX 10 GM)479750.13 %
  • SILVER(MCX 1 KG)65231-0.33 %

सागर बायपास की दुर्दशा:3 साल पहले बने ओवरब्रिज पर 40 गड्‌ढे, रिपेयरिंग के नाम पर सीसी सड़क के गड्‌ढों में भरा डामर

दमोहएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दमोह। सागर बायपास रेलवे ओवर ब्रिज पर सीसी की जगह डामर गड्‌ढों में भरा गया, जो बारिश में खराब हो गया। अब ब्रिज में सरिया नजर आने लगे हैं। खबर के साथ। - Money Bhaskar
दमोह। सागर बायपास रेलवे ओवर ब्रिज पर सीसी की जगह डामर गड्‌ढों में भरा गया, जो बारिश में खराब हो गया। अब ब्रिज में सरिया नजर आने लगे हैं। खबर के साथ।
  • ढाई साल से स्ट्रीट लाइट बंद, बिल जमा न होने से कट गई लाइट
  • नगरपालिका और ग्राम पंचायत के बीच बिल भरने को लेकर पेंच

तीन साल पहले सागर बायपास रेलवे ब्रिज पर 40 से ज्यादा गड्‌ढे हो गए हैं। एक बार इन गड्‌ढों को भरने के लिए अधिकारियों ने सीसी की जगह डामर भरवा दिया। बारिश में यह डामर भी एक माह तक नहीं चल पाया और पहले की तरह फिर से गड्‌ढे दिखाई देने लगे हैं।

परेशानी की बात यह है कि ब्रिज से दिन भर हैवी लोडिंग ट्रक निकलते हैं और इन गड्ढों में से जैसे ही निकलते हैं ब्रिज कंपन होने लगता है। यदि इनकी मरम्मत नहीं की गई तो आने वालों दिन में यहां पर गंभीर हादसा हो सकता है। इधर आसपास के लोग ब्रिज के स्ट्रीट लाइट कटी होने से परेशान हैं। रात में यहां पर असामाजिक तत्व चाकुओं की दम पर लोगों को डराते धमकाते हैं।

दरअसल सेतु निर्माण विभाग और निर्माण एजेंसी की लापरवाही से यह 8 सौ मीटर लंबा ब्रिज जर्जर होने लगी है। 42 करोड़ रुपए में इसे बनाया जाना था, लेकिन एजेंसी ने इसे 36 करोड़ रुपए में तैयार किया था। ब्रिज बनने के बाद पर रौनक बढ़ गई थी। लोग परिवार के साथ इस पर घूमने के लिए आने लगे थे।

रात में जगमगाती लाइटें और यहां के सौंदर्य को देखते हुए इस स्थान के लिए सेल्फी प्वाइंट के रूप में देखा जा रहा था, मगर जैसे ही ब्रिज की स्ट्रीट बंद हुईं, धीरे-धीरे ब्रिज उपेक्षा का शिकार हो गया। मेंटनेंस न होने से ब्रिज में गड्ढे हो गए। सफाई न होने से पानी की निकासी का रास्ता बंद हो गया और सड़क पर पानी बहने से जगह-जगह गड्ढे हो गए।

बीच-बीच में सीसी सड़क टूट गई। न तो अधिकारी यहां पर निरीक्षण करने के लिए आ रहे हैं और न ही मेंटनेंस कर रहे हैं। कलेक्टर तक शिकायत होने पर एक बार अधिकारियों ने यहां पर सीसी सड़क में हुए गड्ढों में डामर भर दिया। बारिश में यह डामर भी बह गया। अब फिर से पहले जैसे हालात हो गए हैं।

स्थानीय लोग बोले- जब से ब्रिज बना, परेशानी हो गई है

स्थानीय निवासी कुसुम रानी इस ब्रिज की वजह से बहुत परेशान हैं। उनका कहना है कि रात में यहां पर अंधेरा रहता है। असामाजिक तत्व यहां पर आने-जाने वालों को परेशान करते हैं। रात के अंधेरे में यहां पर शहर से आने वाले बदमाश चाकू अड़ाकर रुपए मांगते हैं।

चुनाव में नेता आए थे, उन्हें समस्या बताई थी, लेकिन वोट डालने के बाद कुछ नहीं हुआ। ब्रिज बनने से पहले कोई परेशानी नहीं थी, जब से यह बना है, यहां पर रात-दिन परेशानी जा रही है। पुलिस और अधिकारी यहां पर ध्यान देने के लिए नहीं आते हैं। रात में सन्नाटा रहता है।

टेंडर हुआ है, कुछ दिन में काम शुरू होगा

ब्रिज के मेंटेनेंस का टेंडर तैयार हो गया है। कुछ दिन में वह आने वाला है। टेंडर जो एजेंसी लेगी, वह मेंटेनेंस करेगी। स्ट्रीट लाइट का मामला पीडब्ल्यूडी, नगरपालिका और ग्राम पंचायत के बीच का है। इसमें हम कुछ नहीं कर सकते हैं।
रतिराम पटेल, एसडीओ सेतु निर्माण

खबरें और भी हैं...