पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

6 लोगों में मिले लक्षण:नीबीखेड़ा में गंदगी से फैला चिकन‎ पॉक्स रोग, कई ग्रामीण आए चपेट में‎

सरवई4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

गौरिहार जनपद क्षेत्र के नीबीखेड़ा गांव में चिकन पॉक्स बीमारी से करीब दर्जन भर से अधिक ग्रामीण पीड़ित हैं। बीते रोज स्वास्थ्य विभाग की टीम ने पहुंच कर पीड़ितों का इलाज किया, गांव में निगरानी के लिए एक नर्स की तैनाती भी कर दी गई है। ग्रामीणों ने बताया कि यहां चेचक जैसी बीमारी के लक्षण काफी दिनों से ग्रामीणों में मिल रहे हैं।

अब इस बीमारी ने अधिक जोर पकड़ लिया है। गांव में अनेक लोग इससे प्रभावित हैं। इनमें महिलाएं, बच्चे व बुजुर्ग भी शामिल हैं। लेकिन इसके बावजूद ग्रामीणों व पीड़ितों के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से अब तक कोई पुख्ता इंतजाम नहीं किए गए हैं। नीबीखेड़ा गांव4 में राजाराम पटेल पिता मन्नू लाल उम्र 35 वर्ष, गोविंद पाल पिता वीरपाल उम्र 10 वर्ष, बेटालाल पिता श्रीपाल उम्र 32 वर्ष, चंद्रकली पति बेटालाल उम्र 26 वर्ष, सरोज पति रामकिशोर पाल उम्र 35 वर्ष, महेश पिता रामकृपाल यादव उम्र 26 वर्ष, नमन पिता मुल्लू आरख उम्र 10 वर्ष, पूर्णिमा पिता महेश सेन उम्र 12 वर्ष, सत्यम पिता बेटालाल उम्र 9 वर्ष, पूनम पिता रामबली उम्र 8 वर्ष, दुर्गा पिता राजकुमार उम्र 30 वर्ष सहित एक दर्जन से अधिक लोगों में इस बीमारी के लक्षण पाए गए हैं। मरीजों के अनुसार अभी तक किसी भी प्रकार के इलाज की सुविधा नहीं मिल सकी है। जानकारी लगते ही गौरिहार तहसीलदार शैवाल सिंह ने गांव का भ्रमण किया। इसके बाद गौरिहार बीएमओ डॉ. एस प्रजापति ने पीड़ितों की जांच और इलाज किया।

एक-दो दिन में टीम फिर से जाएगी गांव : बीएमओ
गौरिहार बीएमओ डॉ. एस प्रजापति का कहना है कि जिस प्रकार प्रचार किया जा रहा है, ऐसा नहीं है। गांव में 6 लोगों में चिकन पॉक्स के लक्षण पाए गए हैं। सभी को दवाइयां दी गई हैं। उनमें सुधार है। हमने गांव में निरंतर निगरानी के लिए एक नर्स की तैनाती कर दी है। एक दो दिन बाद डॉक्टरों की टीम फिर गांव भेजेंगे। उन्होंने बताया कि यह बीमारी गांव में गंदगी के कारण फैली है। साफ सफाई नहीं होती। लोगों से सावधानी बरतने और एक दूसरे के संपर्क में न आने की समझाइश दी गई है।

खबरें और भी हैं...