पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX58461.291.35 %
  • NIFTY17401.651.37 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47394-0.41 %
  • SILVER(MCX 1 KG)60655-1.89 %

रीवा में मूर्ति विसर्जन करते समय हादसा:दुर्गा प्रतिमा को तालाब की गहराई में ले जाना चाहता था युवक, कूदते ही तालाब में डूबा, 8 घंटे में गोताखोरों ने खोज निकाला

रीवा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शव बरामद होने के बाद तालाब के ऊपर ले जाते होमगार्ड के जवान - Money Bhaskar
शव बरामद होने के बाद तालाब के ऊपर ले जाते होमगार्ड के जवान

रीवा जिले में मूर्ति विसर्जन करते समय एक युवक तालाब में डूब गया। कई मिनटों तक जब युवक बाहर नहीं निकता तो लोगों ने पुलिस को खबर दी। जानकारी के बाद पहुंची पुलिस ने स्थानीय गोताखोरों की मदद से तालाब की सर्चिंग की, लेकिन सफलता नहीं मिली।

ऐसे में पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को सूचना देकर होमगार्ड व एसडीआरईएफ के गोताखोर सहित स्टीमर की डिमांड की। दोपहर में पहुंची एसडीआरईएफ के जवानों ने स्टीमर की मदद से तालाब का चप्पा चप्पा छान मारा। लेकिन शनिवार की शाम 6 बजे के बाद युवक का शव बरामद कर लिया गया है।

मनगवां थाना प्रभारी केपी त्रिपाठी ने बताया कि धीरेन्द्र विश्वकर्मा (20) शनिवार की सुबह 10 बजे के बीच दुर्गा भक्तों के साथ मूर्ति विसर्जन करने तालाब पहुंचा था। जैसे ही अन्य श्रद्धालु प्रतिमा को लेकर तालाब में उतरे तभी धीरेन्द्र विश्वकर्मा ने तालाब में छलांग लगा दी।

लोगों का दावा है कि धीरेन्द्र प्रतिमा को गहराई में ले जाना चाहता था। ऐसे में वह साथ में न जाकर छलांग लगा दी। लेकिन वह तालाब में कूदते ही डूब गया। फिर ऊपर नहीं आया है। अंतत: 8 घंटे बाद शाम 6 बजे एसडीआरईएफ और होमगार्ड के गोताखोरों ने स्टीमर की मदद से शव बरामद कर लिया है। हालांकि मृतक का शव पुलिस ने पोस्टम मार्टम के लिए मर्चुरी में रखा दिया है। लेकिन पीएम रविवार की सुबह 11 बजे के बाद होग।

स्टीमर से शव उतारते एसडीआरएफ के जवान
स्टीमर से शव उतारते एसडीआरएफ के जवान

एसडीएम और तहसीलदार पहुंचे मौके पर
कुइयां के नवागांव कोठार गांव के चौधरी तालाब में एक युवक के डूबने की जानकारी के बाद मनगवां एसडीएम केपी पाण्डेय सहित नायब तहसीलदार एसबी सिंह मौके पर पहुंचे है। साथ ही परिजनों को समझाइश देते हुए युवक की तालाब से जल्द तलाश पूरी करने के लिए रेस्क्यू आपरेशन तेज करने का आश्वासन दिया है। दुर्गा भक्तों ने बताया कि शायद धीरेन्द्र विश्वकर्मा मूर्ति विसर्जन करते समय मां की प्रतिमा को गहराई पर लेकर जाना चाहता था। क्योंकि कम पानी में प्रतिमा का अच्छे से विसर्जन नहीं हो पाता है। ऐसे में वह लोगों को मार्गदर्शन देते हुए दूसरी ओर से तालाब में छलांग लगाई थी।

शाम 6 बजे के बाद तालाब ने उगली डेड बॉडी
मनगवां एसडीएम केपी पाण्डेय ने की मानें तो सुबह 10 बजे तालाब में मूर्ति विसर्जन करते समय डूबे धीरेन्द्र विश्वकर्मा को शाम 6 बजे के बाद डेड बॉडी होमगार्ड के गोताखोरों ने खोज निकाली है। इसके बाद शव को स्टीमर की मदद से बाहर लाया गया है। तब स्थानीय प्रशासन ने राहत की सांस लेते हुए गोताखोरों को धन्यवाद ज्ञापित किया है।

खबरें और भी हैं...