पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Rewa
  • Story Of Robbery And Shooting Turned Out To Be Fake In Rewa District, Police Arrested Two Accused

रीवा में फर्जी निकली गोली मारने की कहानी:पुलिस को गुमराह कर लूट की झूठी कहानी बताने वाले दो आरोपी गिरफ्तार, एक फरार, मुख्य आरोपी अस्पताल में भर्ती

रीवा9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • गोविंदगढ़ थाना क्षेत्र के अमिलकी रेलवे पुल के पास मारपीट, लूट और गोली मारने की रची थी कहानी

रीवा जिले के गोविन्दगढ़ थाना अंतर्गत अमिलकी के पास पार्टी मनाकर लौट रहे तीन युवाओं द्वारा झूठी गोली मारने की कहानी का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। पुलिस का दावा है कि 9 सितंबर की शाम रोहित तिवारी के जन्मदिन की पार्टी गोविन्दगढ़ के खंधो माता मन्दिर में 9 दोस्तों की उपस्थित में आयोजित हुई थी। जहां अनुराग मिश्रा अवैध रूप से 32 बोर की लोडेड पिस्टल लेकर पहुंचा था। इसी बीच अभिषेक दाहिया ने पिस्टल की मांग की। तब अनुराग मिश्रा ने अभिषेक दाहिया को पिस्टल सौंप दिया।

इसी बीच अभिषेक दाहिया से पिस्टल का ट्रिगर दब गया और सामने खड़े आकाश दाहिया के बाएं हाथ को गोली चीरती हुई पैर की जाघ में धस गई। फिर घायल आकाश दाहिया, अभिषेक दाहिया और अनुराग मिश्रा ने पुलिस को झूठी कहानी बताकर गुमराह किया। लेकिन अलग-अलग बयान ने झूठ का पर्दाफास कर दिया। ऐसे में पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार कर 1 पिस्टल, 1 कारतूस जब्त कर ली है। जबकि पिस्टल देने वाला आरोपी फरार है। वहीं मुख्य आरोपी की पुलिस की मौजूदगी में इलाज चल रहा है।

गोविंदगढ़ थाना प्रभारी सुनील सिंह बघेल ने बताया कि 9 सितंबर की रात 10 बजे अमिलकी रेलवे पुल के पास मारपीट फिर लूट और अंत में गोली मारने की कहानी नहीं पच रही थी। ऐसे में 10 सितंबर को अप.क्र. 326/21 धारा 394, 397 तहि. का मामला दर्ज कर विवेचना​ में लिया।

घायल आकाश दाहिया के बयान के आधार पर 9 दोस्तों से पूछताछ की तो कहानी फर्जी निकली। तब लोक अभियोजन कार्यालय से विधिक राय लेकर धारा 394, 397 ताहि. का अपराध घटित होना नहीं पाया गया। साथ ही भादसं की धारा 308, 182, 193, 120 (बी) एवं 109 ताहि. एवं धारा 25 (1-बी) (ए) 27 आर्स एक्ट का अपराध घटित होना पाया गया।

पिस्टल के साथ दो आरोपी गिरफ्तार
गोविंदगढ़ पुलिस ने गोली चलने की मनगढ़ंत कहानी बताने वाले घायल आकाश दाहिया, अभिषेक दाहिया और अनुराग मिश्रा को मुख्य आरोपी बनाया है। जबकि पिस्टल उपल​ब्ध कराने वाले प्रिंस मिश्रा को सहायक आरोपी की भूमिका में है। ऐसे में फर्जी गोली चलने की कहाना पर पुलिस ने चार आरोपी बनाए है। जिसमे मुख्य आरोपी घायल आकाश दाहिया का पुलिस कस्टडी में संजय गांधी अस्पताल में उपचार चल रहा है।

जबकि प्रिंस मिश्रा फरार है। वहीं अभिषेक दाहिया को गिरफ्तार कर​ लिया है। इसी तरह शातिर अपराधी अनुराग मिश्रा को 32 बोर के पिस्टल व 1 नग कारतूस के साथ गिरफ्तार करते हुए सिविल लाइन थाने को सौंप दिया है। उसके खिलाफ वहां पर धारा 326, 327 का अपराध कायम था। ऐसे में सिविल लाइन पुलिस आरोपी को अपने स्तर से पूछताछ कर कोर्ट में पेश करेगी।

खबरें और भी हैं...