पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX60821.62-0.17 %
  • NIFTY18114.9-0.35 %
  • GOLD(MCX 10 GM)475300.32 %
  • SILVER(MCX 1 KG)648840.32 %
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Rewa
  • Rewa City Bus: 23 City Buses Were To Be Run In The First Cluster, But 15 Could Be Operated In 3 Years

रीवा सिटी बस सेवा:पहले कलस्टर में चलानी थी 23 सिटी बसें, पर 3 साल में 15 संचालित हो पाई, 8 वाहनों की जिम्मेदारों ने नहीं ली सुध, 2 कलस्टरों के टेंडर तक नहीं हुए

रीवाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Money Bhaskar
फाइल फोटो

विंध्य के रीवा जिले को सिटी बस यानी की (आरसीटीएसएल ) सूत्र सेवा के माध्यम से शत प्रतिशत यात्रियों को सु​विधा देने के दावे हवा हवाई साबित हो रहे है। आलम है कि तीन साल बाद भी पूरी संख्या के साथ बसों का संचालन नहीं हो रहा है। जबकि अमृत योजना के तहत शहर में तीन साल के भीतर तीन कलस्टर बनाकर 60 बसों का संचालन करना था। लेकिन नगर निगम के जिम्मेदार दो कलस्टरों का टेंडर आज तक नहीं करा पाए हैं।

ऐसे में पहले कलस्टर की 23 बसों की जगह सिर्फ 15 बसें ही संचालित हो रही है। वहीं 8 बसों के बारे में जिम्मेदारों ने सुध तक नहीं ली है। जिससे आधी बसों का संचालन आसपास के अन्य 6 रूटों में हो रहा है। इसी तरह चार बसों का संचालन सतना व छतरपुर रूट पर हो रहा है। ऐसे में शहर के अंदर मात्र 5 से 6 बसें ही चल रही है।

अब तक हो जाना चाहिए 60 बसों का संचालन
नगर निगम सूत्र सेवा के प्रभारी मुरारी सिंह ने बताया कि अभी एक कलस्टर में बसें संचालित हो रही है। करीब 23 बसों का संचालन होना था, लेकिन 15 बसें दौड़ रही है। जल्द ही 8 और बसें संचालित होने वाली है। वहीं संचालक को नोटिस जारी किया गया है।

सूत्रों की मानें तो नियम के मुताबिक अब तक 60 बसों का संचालन शुरू हो जाना चाहिए था। पहले कलस्टर में 23 दूसरे कलस्टर में 18 और तीसरे कलस्टर में 19 बसों का संचालन होना था। लेकिन पहले कलस्टर के टेंडर की 15 बसें ही चल रही है।

दो कलस्टर के टेंडर तक नहीं
बता दें कि नगर निगम ने जब सिटी बस शुरू करने की योजना बनाई थी। तो तीन कलस्टर में पूरे प्रोजेक्ट को बांटा था। जिसमे शहर के अंदर व अन्य बड़े शहरों को बस सेवा से जोड़ने की योजना थी। ऐसे में पहले कलस्टर का टेंडर कर वर्ष 2018 में सूत्र सेवा का शुभारंभ हुआ था। लेकिन दो साल बीतने के बाद भी दो कलस्टर का आज तक टेंडर नहीं हो पाया है।

खबरें और भी हैं...