पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पन्ना के हीरा व्यापारी का पर्स ऑटो से पार:रीवा के ऑटो चालक ने की 6.25 लाख के हीरे की चोरी, एक दिन खोजता रहा, दूसरे दिन थाने पहुंचा व्यापारी

रीवाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

रीवा शहर के सिविल लाइन थाना अंतर्गत रेलवे पुल से पुराने बस स्टैंड के बीच पन्ना के हीरा व्यापारी का पर्स ऑटो से पार हो गया। चोरी गए पर्स में 6.25 लाख का हीरा था। वारदात के बाद हीरा व्यापारी अपने स्तर से ऑटो चालक को खोजता रहा। लेकिन जब वह नहीं मिला तो रीवा के व्यापारियों को अवगत कराया। इस तरह 24 घंटे गुजर गए।

थक हारकर हीरा व्यापारी दूसरे दिन शहर के सराफा कारोबारियों के साथ ​थाने पहुंचा। जिसके बाद पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर अज्ञात ऑटो चालक की खोज शुरू की। इसी बीच तीसरे दिन मीडिया तक हीरा चोरी की खबर पहुंची तो हड़कंप मच गया। ऑटो चालक पुलिस की रडार में है। उसकी हर पल की ​गतिविधियां ट्रेस की जा रही है।

ये है मामला
सिविल लाइन थाना प्रभारी निरीक्षक हितेन्द्र नाथ शर्मा ने बताया कि 11 मई की दोपहर पन्ना निवासी हीरा व्यापारी बिहारी कोंदर रेलवे मोड (अस्थाई बस स्टैंड) पर सतना की बस से उतरा। जहां पहले से खड़े ऑटो चालक ने पुराने बस स्टैंड की सवारी बैठाने लगा। बुंदेलखंडी भाषा सुनकर रीवा का ऑटो चालक पॉकेट मारने का प्लान बना लिया। ऐसे में हीरा व्यापारी को पीछे की जगह आगे ऑटो चालक की सीट के बगल में बैठा लिया गया। जबकि चालक के साथी चोर सीट में बैठकर ठहाके लगाते रहे।

पीक मारने की नौटंकी, सीट से उठाते रहे व्यापारी को
पुलिस ने कहा कि शातिर ऑटो चालक हीरा व्यापारी का पर्स चुनाने के लिए पीक मारने (थूंकने) का नाटक-नौटंकी करते रहे। साथ ही कभी व्यापारी को सीट की दाई तो कभी बाई ओर बैठाते रहे। जब व्यापारी के पैंट के पीछे की जेब से पर्स निकाल लिए तो सिटी बस से बस स्टैंड जाने का हवाला देकर आधे रास्ते में उतार दिया। इधर हीरा व्यापारी को ऑटो से उतरते ही चोरी का अहसास हुआ। जिसके बाद वह पुराने बस स्टैंड से रेलवे मोड तक कई चक्कर लगाए। अंत में रीवा के व्यापारियों को जानकारी दी।

चोरी गया डायमंड एक नंबर का
पुलिस का दावा है कि हीरा व्यापारी के पास से चोरी हुआ डायमंड एक नंबर का है। व्यापारी ने 6.25 लाख रुपए का बिल भी दिखाया है। इधर चर्चा है कि हीरा कारोबारी ने एक दिन तक चोरी की बात छिपाए रखा। जिससे पुलिस को चोर तक पहुंचने में मशक्कत करनी पड़ रही है। क्योंकि 12 मई को प्रकरण दर्ज करने के बाद पुलिस हरकत में आई है। सूत्रों की मानें तो 13 मई को पुलिस ने सभी ऑटो चालकों से संपर्क किया है। साथ ही दोपहर के समय गुजरने वाले ऑटो चालकों की भूमिका जांची जा रही है।

खबरें और भी हैं...