पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX59015.89-0.21 %
  • NIFTY17585.15-0.25 %
  • GOLD(MCX 10 GM)46178-0.54 %
  • SILVER(MCX 1 KG)61067-1.56 %

कोरोना का तोहफा:10वीं में टॉपर रहे विद्यार्थी बोले - मेरिट सूची मायने नहीं रखती, सुरक्षा जरूरी

मंदसौर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिले में कक्षा 12वीं के 11540 छात्र, आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर सभी पास, परिणाम से छात्रों में संतोष, कोई समस्या नहीं

माध्यमिक शिक्षा मंडल ने आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर गुरुवार को 12वीं का रिजल्ट जारी किया। कोरोना के चलते इस बार 100% बच्चों ने 12वीं पास कर ली। विभाग ने मेरिट सूची जारी नहीं की। हालांकि इससे बच्चों को कोई समस्या नहीं है। 10वीं में मेरिट में आने वाले बच्चे भी इस परिणाम से खुश हैं। जिले भर में 11540 विद्यार्थी 12वीं की परीक्षा दिए बिना ही पास हो गए। जिले का चार साल का परीक्षा परिणाम देखें तो कभी 74% तो कभी 85% रहा है। औसत निकालने पर परिणाम 79.48% ही रहा है। इस आधार पर वर्तमान आंकड़ों के हिसाब से 12वीं के कुल विद्यार्थियों में से 2368 यानी 20.52% विद्यार्थी फेल हो जाते हैं। अबकि बार उत्तीर्ण का रिजल्ट इन विद्यार्थियों के लिए तोहफे से कम नहीं है।

10वीं में प्रदेश की मेरिट सूची में शामिल होने वाली शामगढ़ की मीनल चंद्रावत ने बताया कि 12वीं के रिजल्ट में मेरिट सूची मायने नहीं रखती। सुरक्षा ज्यादा महत्वपूर्ण है। शासन ने सोच-समझकर ही उचित निर्णय लिया है। वो बात अलग है कि मेरिट सूची जारी होती व उसमें नाम आने पर ज्यादा खुशी होती। इसी तरह दो साल पहले 10वीं में जिले में टॉप करने वाली दलौदा की शिवानी सोनी, ज्योति देवड़ा, साक्षी धाकड़ ने बताया कि अभी के परीक्षा परिणाम से समस्या नहीं है। विभाग ने मूल्यांकन कर उचित अंक ही दिए हैं। परीक्षा होती व मेरिट में नाम आता तो ज्यादा अच्छा लगता। इस परिणाम से भी कोई समस्या नहीं है।

असंतुष्ट विद्यार्थियों के लिए है विकल्प

जिला शिक्षा अधिकारी आर.एल. कारपेंटर ने बताया कि जो छात्र परीक्षा परिणाम से सतुंष्ट नहीं हैं, उनके लिए अन्य विकल्प भी हैं। विद्यार्थी चाहें तो सितंबर में होने वाली परीक्षा के लिए अगस्त के प्रथम सप्ताह में आवेदन कर सकते हैं। परीक्षा में भाग लेने वाले विद्यार्थी को माशिमं की ओर से मार्कशीट भी दी जाएगी।

उत्कृष्ट स्कूल के 217 विद्यार्थी प्रथम श्रेणी में

उत्कृष्ट स्कूल मंदसौर के प्राचार्य पृथ्वीराज परमार ने बताया कि विद्यालय में 12वीं में 227 विद्यार्थी थे जिसमें से 217 प्रथम श्रेणी में तथा 10 द्वितीय श्रेणी में उत्तीर्ण हुए हैं। विज्ञान संकाय में मधुबाला पिता नारायण ने 97 प्रतिशत अंक प्राप्त कर प्रथम स्थान प्राप्त किया। गणित संकाय में वर्षा पिता पूनमचंद ने 96.8 प्रतिशत अंक प्राप्त कर द्वितीय स्थान तथा गणित संकाय में ही गुनगुन पिता रायसिंह ने 96.2 प्रतिशत अंक प्राप्त कर तृतीय स्थान बनाया। तीनों छात्राओं ने बताया कि परीक्षा परिणाम से कोई समस्या नहीं है। परीक्षा होती तो शायद हम बेहतर प्रदर्शन कर पाते या इससे कम भी हो जाता।

103 में से 59 रहे अव्वल
कुचड़ौद | हायर सेकंडरी स्कूल में कुल 103 विद्यार्थी थे जिसमें 59 विद्यार्थी प्रथम श्रेणी में पास हुए। 43 ने द्वितीय श्रेणी प्राप्त की। एक विद्यार्थी तृतीय श्रेणी में रहा। दशरथ पिता गोपाल ने 500 में से 466 एवं दुर्गा पिता कारूलाल ने 500 में से 448 अंक प्राप्त किए। आदित्य सोनी, आंचल अंगूरबाला ने बताया कि परीक्षा का इंतजार कर रहे थे लेकिन कोरोना के चलते नहीं हुई। इससे परीक्षा में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं दिखा सके। वहीं कमजोर बच्चे इस परिणाम से खुश हैं।

साक्षी ने प्राप्त किए 97.6 प्रतिशत अंक नाहरगढ़ | शासकीय हायर सेकंडरी स्कूल हिंगोरियाबड़ा की साक्षी पिता रामबाबू जगावत निवासी गांव ढोर्री ने 97.6 अंक प्राप्त किए। साक्षी ने बताया कि पुराना व वर्तमान का मूल्यांकन करके ही नंबर दिए गए हैं जिससे संतोष है।

जिले में 4 साल में ऐसा रहा 12वीं का परिणाम

वर्ष छात्र उत्तीर्ण छात्र उत्तीर्ण प्रतिशत
2017 - 9981 - 8192 - 82.07%
2018 - 10897 8382 - 76.92%
2019 - 10090 8554 - 84.77%
2020 - 11903 8827 - 74.16%

खबरें और भी हैं...