पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX59015.89-0.21 %
  • NIFTY17585.15-0.25 %
  • GOLD(MCX 10 GM)46178-0.54 %
  • SILVER(MCX 1 KG)61067-1.56 %

संदिग्ध स्थिति में:बुजुर्ग की मौत, जिले में 52 दिन बाद फिर कोविड प्रोटोकॉल से अंतिम संस्कार

मंदसौर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ग्राम अमलावद में मृतक के घर शाम तक कोई टीम नहीं पहुंची। - Money Bhaskar
ग्राम अमलावद में मृतक के घर शाम तक कोई टीम नहीं पहुंची।
  • ऑक्सीजन लेवल कम व सीटी स्कोर 22 था, शाम तक कोई जांच के लिए भी नहीं पहुंचा, रेपिड टेस्ट निगेटिव आने पर स्वास्थ्य विभाग नहीं मान रहा कोरोना से मौत

जिला अस्पताल में बुधवार देर रात अमलावद निवासी बुजुर्ग की संदिग्ध स्थिति में मौत हो गई। उनका आॅक्सीजन लेवल 70 था व सीटी स्कोर भी 22 आया। निजी अस्पताल संचालक ने भी मरीज के परिजन को लंग्स में इन्फेक्शन बताया था। मौत के बाद शहर के मुक्तिधाम पर कोविड प्रोटोकॉल के तहत अंतिम संस्कार किया गया। रेपिड रिपोर्ट निगेटिव आने पर प्रशासन कोरोना से मौत नहीं मान रहा है। यही नहीं प्रशासन ने अब तक रोकथाम के प्रयास तक नहीं किए। गुरुवार शाम तक संदिग्ध के घर स्वास्थ्य विभाग की टीम भेजना भी प्रशासन ने उचित नहीं समझा। इधर, 24 जून के बाद अब तक जिले में काेई पाॅजिटिव नहीं मिला है। वहीं जिले में काेविड प्राेटाेकाॅल से 7 जून काे अाखिरी बार 3 लाेगाें का अंतिम संस्कार किया गया था।

कोरोना संक्रमण कम हुआ लेकिन खत्म नहीं हुआ है। वर्तमान में आमजन व प्रशासन पूरी तरह लापरवाह है। बुधवार देर रात जिला अस्पताल में अमलावद निवासी कन्हैयालाल पिता नंदाजी धोबी उम्र 68 साल की मौत हो गई। अमलावद स्वास्थ्य केंद्र के डॉ. प्रमोद गुप्ता के अनुसार कन्हैयालाल को परिजन 19 जुलाई सुबह लाए थे। उस समय पेट दर्द अाैर हल्की ठंड की शिकायत थी। इस पर मलेरिया टेस्ट किया जो नेगेटिव आया था। उसी के अनुरूप इलाज दे रहे थे। दोबारा मरीज को नहीं लाया गया।

जानकारी के अनुसार कुछ दिन परिजन घर पर ही उपचार कराते रहे। बुधवार सुबह स्वास्थ्य ज्यादा खराब हो गया। कन्हैयालाल को सीने में दर्द होने पर परिजन ने मंदसौर के अजय अस्पताल में भर्ती कराया। यहां ऑक्सीजन लेवल कम आने पर ऑक्सीजन लगाई। सीटी स्कैन रिपोर्ट में मरीज का सीटी स्कोर 22 आया। बुधवार रात को स्वास्थ्य ज्यादा खराब होने पर निजी अस्पताल ने जिला अस्पताल रेफर कर दिया। जहां कोविड लक्षण होने पर मरीज को सस्पेक्ट मानते हुए इलाज शुरू किया। करीब 20 मिनट में मौत हो गई। गुरुवार सुबह कन्हैयालाल का कोविड प्रोटोकॉल से मुक्तिधाम पर अंतिम संस्कार किया।

काेविड टेस्ट नहीं किया : भगवानलाल

कन्हैयालाल के पुत्र भगवानलाल ने बताया कि पिताजी 1 महीने से कहीं बाहर नहीं गए थे। बुधवार सुबह सीने में दर्द होने पर मंदसौर निजी अस्पताल ले गए थे। जहां से शाम को जिला अस्पताल रेफर किया। अस्पताल में कोविड टेस्ट नहीं किया। सिविल सर्जन डॉ. शर्मा रेपिड टेस्ट करने व रिपोर्ट निगेटिव आने की बात कह रहे हैं।

लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण नहीं किया

जिला प्रशासन ने मृतक को सस्पेक्ट मानते हुए उसका अंतिम संस्कार कोविड प्रोटोकॉल के तहत किया। गुरुवार शाम तक स्वास्थ्य विभाग ने परिजन व गांव में अन्य लोगों का परीक्षण करना भी उचित नहीं समझा। धुंधड़का ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर डॉ. सतीश गौड़ ने मामले में किसी भी प्रकार की जानकारी मिलने से मना कर दिया।

क्या कहते हैं जिम्मेदार

वे खबर करेंगे तब हम जाएंगे

अजय अस्पताल से रिपाेर्ट नहीं आई, वह खबर करेंगे तब हम जाएंगे। हम तो आरटीपीसीआर, रेपिड या ट्रूनॉट में पॉजिटिव आने पर कोविड पॉजिटिव मानते हैं। संक्रमण रोकने के लिए दाह संस्कार कोविड प्रोटोकॉल के तहत कर दिया हाेगा। जानकारी मिलते ही आगे की कार्रवाई करेंगे।
-डॉ. के.एल. राठौर, सीएमएचओ

सीरियस लाए थे, रिपोर्ट निगेटिव

अजय अस्पताल में उपचार चल रहा था। मरीज सीरियस हो गया तो जिला अस्पताल लाए। उसका ऑक्सीजन लेवल कम था, सीटी स्कोर में भी इन्फेक्शन था। ऐसे में उसे सस्पेक्टेड मानते हुए भर्ती किया। रेपिड टेस्ट लिया लेकिन उसमें रिपोर्ट निगेटिव आई थी। संदिग्ध मानते हुए कोविड प्रोटोकॉल के तहत अंतिम संस्कार किया।
-डॉ. डी.के. शर्मा, सिविल सर्जन

खबरें और भी हैं...