पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भिंड के इंदुर्खी में 3 दिन में 3 मौतें:तबीयत बिगड़ने से पहले मंगाई थी शराब, इलाज के लिए जाते समय तोड़ा दम

भिंड4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पीएम हाउस पर परिजन। - Money Bhaskar
पीएम हाउस पर परिजन।

भिंड के इंदुर्खी गांव में शराब पीने से दो दिन पहले हुई दो लाेगों की मौत का मातम थमा नहीं था। अब तीसरे व्यक्ति की मौत हो गई। तीसरा मृतक, तीन - चार दिन से बीमार चल रहा था। शाम को दर्द से निजात पाने के लिए शराब मंगाई थी। इसके बाद दर्द बढ़ा। गांव के लोग जब इलाज के लिए भिंड ले जा रहे थे तब बीच रास्ते में मौत हो गई। यह जानकारी पुलिस को लगते ही पुलिस ने शव का पीएम कराया। हालांकि मामला में मृतक के परिवार के सदस्य कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है।

भिंड मुख्याालय से करीब 55 किलोमीटर दूर इंदुर्खी गांव में दो दिन में लगातार तीसरी मौत है। पहले दो सगे भाइयों की मौत हुई थी। मृतक के परिवार में दूर के रिश्ते का चाचा पप्पू पुत्र राम सिंह जाटव (45) की तीन से चार दिन से शरीर में दर्द रह रहा था। रविवार की शाम को उसके कमर में दर्द बढ़ा। दर्द से राहत पान के लिए दिल्ली से आए भतीजे से शराब का क्वार्टर मंगाया। इसके बाद रात को तबियत अचानक बिगड़ने लगी। इसके बाद गांव के ही लोग अपने वाहन में उपचार के लिए लेकर भिंड के लिए रवाना हुए। किशोर सिंह के पुरा से आगे जाते ढोंचरा पर कार से जाते समय अचानक पप्पू की तबियत बिगड़ी और उसकी हालत खराब हो गई। एक दो उल्टियां हुई और मौके पर ही दम तोड़ दिया। इसके बाद शव परिजन घर लेकर पहुंचे। इसके बाद रौन थाना पुलिस को जानकारी लगी। पुलिस ने सोमवार को शव का पीएम कराने को कहा, इस पर परिजनों ने सामान्य मौत बताई। हालांकि पुलिस को मामला संदिग्ध लगा। इस पर शव का पीएम कराया गया।

रास्ते में हुई मौत

गांव के महादेव सिंह का कहना है कि रात में जाटव समाज के लोगों ने पप्पू की तबियत खराब होने की जानकारी दी। इस पर में अपने वाहन से उसे उपचार के लिए लेकर भिंड जा रहा था। तभी ढौंचरा गांव के पास अचानक तबियत खराब हुई और उसकी मौत हो गई।

शव का पीएम कराया

  • इंदुर्खी गांव में पप्पू जाटव की मौत हुई है। पप्पू की तबियत खराब चल रही थी। शाम को उसने शराब का क्वार्टर भतीजे से मंगाया था। परंतु शराब के सेवन की जानकारी नहीं मिली है। मौत के बाद शव का पीएम कराया जा रहा है। पीएम रिपोर्ट में मौत का कारण साफ हो जाएगा।

अवनीश बंसल, एसडीओपी, लहार