पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Kamal Nath Is The First Leader Of Opposition Who Did Not Go To The Public In Crisis, Only Doing Politics Of Tweet

गृहमंत्री का कांग्रेस पर हमला:कमलनाथ पहले नेता प्रतिपक्ष जो संकट में जनता के बीच नहीं गए, सिर्फ ट्वीट की राजनीति कर रहे

मध्यप्रदेश4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर निशाना साधा है। मिश्रा ने सवाल खड़ा किया कि कभी किसी ने ऐसा देखा क्या कोई नेताप्रतिपक्ष इतनी भीषण ओलावृष्टि में नहीं गया होगा। कमलनाथ पहले नेता प्रतिपक्ष हैं जो संकट में कभी भी जनता के बीच नहीं जाते। सिर्फ ट्वीट से ही राजनीति करते हैं। यह प्रदेश का दुर्भाग्य है और विपक्ष की स्थिति कि उनका एक भी नेता फसलों को जायजा लेने नहीं गया। गृहमंत्री सोमवार को मीडिया से चर्चा कर रहे थे।

टेम और सुठालिया सिंचाई परियोजना के कारण डूब में आ रहे परिवारों की समस्याएं बताने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह से मिलने का समय मांगा है। इसको लेकर गृहमंत्री ने दिग्विजय सिंह पर भी निशाना साधा और कहा कि आपदा और विपदा की घड़ी में कभी नहीं दिखते। कोरोना की तीसरी लहर आ गया है, यह किसी अस्पताल में दिखे। कहीं अनाज बंटाते दिखे। दिग्विजय सिंह पॉलिटिकल पाखंड कर रहे हैं पत्र तो वह कमलनाथ जी को और उमंग सिंगार जैसे अपने मंत्रियों को भी लिखते रहे हैं। मिश्रा ने कहा कि हमारे मुख्यमंत्री संवाद के लिए सभी के लिए सर्वसुलभ तरीके से उपलब्ध हैं।

जो चाइनीज मांझा बेचेगा, उसके खिलाफ उज्जैन जैसी कार्रवाई होगी
उज्जैन में 20 साल की छात्रा की जान चाइनीज मांझे ने ले ली। इसको लेकर गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने सभी बिक्रेताओं को चेतावनी जारी की है। मिश्रा ने कहा कि प्रदेश में प्रतिबंधित चाइनीज मांझा बेचते हुए यदि कोई भी, कहीं भी पाया गया तो उस पर उज्जैन जैसी ही सख्त कार्यवाही की जाएगी। मिश्रा सोमवार को मीडिया से चर्चा करते हुए यह चेतावनी जारी की।

ऑनलाइन एग्जाम पर विचार करेगी सरकार
कॉलेज मे ऑनलाइन एग्जाम की मांग को लेकर गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि विधायकों ने जो मांग रखी है उस पर विचार किया जाएगा। बीजेपी विधायक नारायण त्रिपाठी और महेंद्र हार्डिया ने ऑनलाइन एग्जाम को लेकर सरकार को पत्र लिखा है। कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए कॉलेज में ऑफलाइन की जगह ऑनलाइन परीक्षा की मांग उठ रही है।