पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX56904.29-0.62 %
  • NIFTY16982.85-0.42 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47917-0.1 %
  • SILVER(MCX 1 KG)61746-1.71 %
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • 46 Out Of 52 Districts Of The State Were Wet; Heavy Rain In Rajgarh, Sehore, Light Showers In Bhopal And Indore, Likely To Form A New System In 48 Hours

MP में कहीं तेज तो कहीं रिमझिम:प्रदेश के 52 में से 46 जिले भीगे; भोपाल में तेज बारिश, 48 घंटों में एक और सिस्टम के सक्रिय होने की संभावना, इंदौर समेत कुछ इलाकों में बूंदाबांदी

भोपाल2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भोपाल में इस सीजन में पहली बार केरवा डैम के गेट खोले गए। - Money Bhaskar
भोपाल में इस सीजन में पहली बार केरवा डैम के गेट खोले गए।

मध्यप्रदेश में मानसून के कुछ कमजोर होने से प्रदेश के बारिश में कमी आई है, लेकिन अब भी प्रदेश के अधिकांश हिस्सों में रिमझिम हो रही है। इंदौर और भोपाल में शुक्रवार देर रात से शुरू हुआ बारिश का सिलसिला शनिवार को भी हल्की फुहारों ने ठंडक कर दी। दोपहर बाद भोपाल में तेज बारिश होने लगी।

मौसम विभाग ने अगले चौबीस घंटों के दौरान भोपाल और इंदौर समेत कुछ जगहों पर हल्की बारिश का अलर्ट जारी किया है। बीते चौबीस घंटों के दौरान प्रदेश के 52 में से 46 जिले तरबतर रहे। हालांकि मुश्किल से पांच जिलों में ही 1 इंच से ज्यादा पानी गिरा है। शेष जिलों में रिमझिम हुई।

मौसम वैज्ञानिक पीके साहा ने बताया कि अगले 48 घंटे में एक और सिस्टम तैयार होने की संभावना है। यह पहले 16 और फिर 17 में सक्रिय होना था, लेकिन अब 20 सितंबर के आसपास सक्रिय होता दिख रहा है। यह भी अभी जारी सिस्टम की तरह ही बारिश करा सकता है। ऐसे में अब प्रदेश में सामान्य बारिश लगभग हो गई है। इससे डैमों की हालत भी सुधर गई है। भोपाल के केरवा समेत प्रदेश के कई डैमों के गेट खोले जा चुके हैं।

यह सिस्टम तैयार हो रहा

वर्तमान में एक निम्न दाब क्षेत्र के कमजोर होने के बाद निम्न दाब क्षेत्र पश्चिमोत्तर मध्य प्रदेश/ पूर्वी राजस्थान के ऊपर चक्रवातीय एक्टिविटी हैं। पश्चिम-मध्य अरब सागर और दक्षिणी बांग्लादेश के ऊपर चक्रवातीय गतिविधियां सक्रिय है। मॉनसून ट्रफ बीकानेर और निम्न दाब क्षेत्र से होते हुए सतना, डाल्टनगंज, जमशेदपुर और दीघा से लेकर पूर्वोत्तर बंगाल की खाड़ी तक फैला है। वहीं तेलंगाना से लेकर रायलसीमा और दक्षिणी तमिलनाडु से तक अन्य ट्रफ लाइन गुजर रही है। वहीं पश्चिमोत्तर बंगाल की खाड़ी में चक्रवातीय गतिविधियां सक्रिय है, जिसके रात तक ओडिशा की ओर विस्थापित होने की संभावना बनी हुई है।

यहां के लिए अलर्ट जारी

अगले चौबीस घंटों के दौरान प्रदेश के कुछ जिलों में भारी बारिश हो सकती है। राजगढ़, झाबुआ, रतलाम, आगर, मंदसौर और उज्जैन में तेज पानी गिर सकता है। इसके अलावा भोपाल, होशंगाबाद, उज्जैन, ग्वालियर, चंबल संभागों में हल्की बारिश हो सकती है। इंदौर, रीवा, सागर जबलपुर और शहडोल में बूंदाबांदी हो सकती है।

यहां जमकर हुई बारिश

राजगढ़ के सारंगपुर, सीहोर के श्यापुर, आगर शहर, सुसनेर, शाजापुर के गुलाना में 4-4 इंच, ब्यावरा, पचौर आगर के नलखेड़ा, शाजापुर के गिरवर, शुजालपुर और रायसेन के बेगमगंज में 3-3 इंच, जीरापुर, सिटी, खिलचीपुर, शाजापुर के बड़ोदिया और कालापीपल में 2-2 इंच पानी गिर गया।

शहरों की स्थिति यह रही

शाजापुर में 2.5 इंच, गुना में 2 इंच, भोपाल, मंडला, रायसेन, भोपाल शहर में 1-1 इंच तक पानी गिरा, जबकि इंदौर, सागर, उज्जैन, दतिया, ग्वालियर में आधा-आधा इंच बारिश हो गई। श्योपुरकलां, रतलाम, दमोह, सतना, रीवा, नौगांव, खरगोन, उमरिया, टीकमगढ़, जबलपुर, सीधी, खजुराह, पचमढ़ी और धार में भी पानी गिरा।

खबरें और भी हैं...