पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जनजातीय सांस्कृतिक कार्यक्रमों से सजा गौरव दिवस समारोह:दूसरे दिन हुए जुम्बा डांस, कलश चुनरी यात्रा, लेजर-शो और आतिशबाजी से हुआ समापन

मंडला2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

गौरव दिवस के दूसरे और अंतिम दिन बुधवार सुबह 7 बजे से कार्यक्रम शुरू हुए, जो देर रात तक चलते रहे। सुबह 7 बजे रैली और जुम्बा डांस, 11 बजे चुनरी और कलश यात्रा, दोपहर में निरक्षरता से आजादी, शाम को पारंपरिक परिधान में रैली, रात में पुलिस ग्राउंड में सांस्कृतिक कार्यक्रम और लेजर शो के कार्यक्रम के बाद रपटा में आतिशबाजी के साथ गौरव दिवस कार्यक्रम का समापन हुआ।

भव्य कलश और चुनरी यात्रा

सुबह 11 बजे भव्य चुनरी और कलश यात्रा का आयोजन किया गया। राजराजेश्वरी वार्ड से प्रारंभ हुई यात्रा शहर के प्रमुख मार्गों से होते हुए रपटाघाट में समाप्त हुई। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में महिलाएं एवं नगरवासी शामिल हुए। रपटाघाट में माँ नर्मदा की पूजा के पश्चात चुनरी अर्पित की गई।

नवसाक्षरों ने दिखाया उत्साह, अक्षरसाथी सम्मानित

दोपहर में निरक्षरता से आजादी अभियान के अंतर्गत स्टेडियम में अनेक कार्यक्रम हुए। निरक्षर से साक्षर बने व्यक्तियों ने कतारबद्ध होकर साक्षर मंडला शब्द की आकृति बनाई। इस अवसर पर निरक्षरता से आजादी अभियान में उत्कृष्ट कार्य करने वाले अधिकारी, अक्षरमित्रों का सम्मान किया गया।

पारंपरिक परिधानों में निकली रैली

दोपहर 3 बजे बैगा-बैगी चौक में जनप्रतिनिधि एवं जिला प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी, कर्मचारी एवं आम नागरिक पारंपरिक परिधानों में बैगा-बैगी चौराहा पहुंचे। चौक में जिला पंचायत अध्यक्ष संजय कुशराम एवं कलेक्टर हर्षिका सिंह ने बैगा समाज के प्रतीक मूर्तियों तथा आदिवासी जननायक बिरसामुंडा की जयंती पर उनके छायाचित्र पर माल्यार्पण कर नमन किया। यह रैली परंपरागत जनजातीय वाद्ययंत्रों की धुनों पर पुलिस लाईन ग्राउंड में आयोजित गौरव दिवस के मुख्य समारोह में शामिल होने के लिए रवाना हुई।

विख्यात कलाकारों की प्रस्तुति से बंधा समा

पुलिस ग्राउंड में गौरव दिवस का मुख्य कार्यक्रम आयोजित किया गया। इसमें जिले और बाहर के कलाकारों ने शानदार प्रस्तुतियों से जनमानस का दिल जीता। खैरागढ़ संगीत विश्वविद्यालय के कलाकारों ने क्लासिकल नृत्य एवं नटराज नृत्य समूह ने मां नर्मदा की स्तुति, सरस्वती आराधना और सेमी क्लासिकल नृत्य प्रस्तुत किया। जिले की गायिका अवनि वर्मा ने राजस्थानी लोक संगीत पर आधारित प्रस्तुति दी।

जनजातीय नृत्य ने बिखेरी विविधता की छटा

कार्यक्रम में जिले एवं बाहर के कलाकारों ने लोकनृत्य का प्रदर्शन किया। जिले के बैगा संस्कृति का परिचय कराने वाले दल ने सोनसाय बैगा के नेतृत्व में बैगा नृत्य की प्रस्तुति दी। रंग-बिरंगे परिधानों एवं आभूषणों से सजे बैगा नृतक दल के सदस्यों की एकरूपता से संपूर्ण समारोह अभिभूत हुआ।

लेजर-शो, आतिशबाजी से हुआ समापन

लेजर-शो गौरव दिवस समारोह का मुख्य आकर्षण रहा। लेजर-शो में जिले की पौराणिक, धार्मिक, ऐतिहासिक तथा वन्यजीवन का परिचय का प्रदर्शन किया गया। अंत में नपा अध्यक्ष विनोद कछवाहा ने गौरव दिवस के आयोजन के लिए जिला प्रशासन के पूरे टीम की सराहना की।

कलेक्टर हर्षिका सिंह ने आयोजन में सहभागिता के लिए नगरवासी एवं जिलेवासियों का अभिवादन किया। जिला प्रशासन ने आयोजन के सहयोगियों को मंच से सम्मानित किया गया। छोटे रपटापुल पर हुए आतिशबाजी से 2 दिवसीय गौरव दिवस आयोजन का रंगारंग समापन हुआ।

गौरव दिवस:दूसरे दिन 24 वार्डों से निकली रैली, जयंती पर बिरसा मुंडा को किया नमन, जुंबा डांस पर जमकर थिरके बच्चे

खबरें और भी हैं...