पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX58461.291.35 %
  • NIFTY17401.651.37 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47394-0.41 %
  • SILVER(MCX 1 KG)60655-1.89 %
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Khandwa
  • The Chief Minister Who Came To Kalmukhi Said Congress's Kamal Nath Government Could Not Fulfill Its Promises, The Public Again Expressed Confidence In Shivraj

खंडवा में CM शिवराज की चुनावी सभा:कांग्रेस पर हुए हमलावर, बोले - राष्ट्रीय अध्यक्ष नहीं, मप्र में सिर्फ कमलनाथ बाकी कांग्रेसी अनाथ; अरुण यादव का टिकट ही काट दिया

खंडवा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज। - Money Bhaskar
सभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज।

खंडवा लोकसभा उपचुनाव को लेकर मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने खंडवा के कालमुखी में BJP कैंडिडेट ज्ञानेश्वर पाटिल के समर्थन में आमसभा की। दिवंगत सांसद नंदकुमारसिंह चौहान के नाम पर वोट मांगे तो कांग्रेस को अड़े हाथों लिया। कहा कि, कांग्रेस के पास राष्ट्रीय अध्यक्ष नहीं है, मप्र में भी सिर्फ कमलनाथ हैं, मुख्यमंत्री से लेकर नेता प्रतिपक्ष और प्रदेश अध्यक्ष है। बाकी कांग्रेसी अनाथ है। पहले सुभाष यादव को मुख्यमंत्री नहीं बनने दिया, अब अरुण यादव का टिकट काट दिया।

मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने 15 महीने की कमलनाथ सरकार पर भी आरोप लगाए। कहा कि, भाजपा सरकार की सभी योजनाएं बंद कर दी थी। यह सारी योजनाएं दोबारा चालू की गई हैं और सभी लोगों का समग्र विकास किया जाएगा। उन्होंने बच्चों की पढ़ाई, स्वास्थ्य सुविधाएं और सबको अपना घर मिले, इसके बारे में चलाई जा रही योजनाओं का जिक्र किया। मुख्यमंत्री ने कहा, नंदकुमारसिंह चौहान के सभी अधूरे सपनों को पूरा किया जाएगा। जनता को एहसास कराया कि नंदकुमारसिंह चौहान की वजह से ही वह दोबारा सत्ता में आए थे लेकिन अफसोस है कि उन्हें खो दिया।

मंच से जोर-शोर से बोले हर्षवर्धन

मंच पर नंदकुमारसिंह के बेटे हर्षवर्धनसिंह भी मौजूद रहे। उन्होंने कहा कि, मेरे पूज्य पिताजी ने सांसद रहते हुए अपने प्राणों की आहूति दी है। सबकों वे परिवार का सदस्य मानते थे। ऐसे ही नहीं वे 6 बार चुनाव जीते थे। उनके जाने के बाद हर्षवर्धन नंदु भैया रहकर आपके साथ रहेगा। शिवराजजी को आश्वस्त कर दो कि हम ज्ञानेश्वर पाटिल हो विजय बनाकर भेजेंगे।

खबरें और भी हैं...