पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX61350.260.63 %
  • NIFTY18268.40.79 %
  • GOLD(MCX 10 GM)479750.13 %
  • SILVER(MCX 1 KG)65231-0.33 %
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Khandwa
  • Standing In The Overflowing Drain With A Rope In One Hand And Rescued 80 People From The Other, People Trapped On The Other Side Of The Drain Amidst Rain In Khadki Village

टूटी पुलिया:उफनते नाले में खड़े होकर एक हाथ में रस्सा और दूसरे से 80 लोगों को बचाया, खड़की गांव में बारिश के बीच नाले के दूसरी ओर फंसे लोग

खंडवाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
टूटी पुलिया से टूटते गए रिश्ते, छूटती गई जिंदगी - Money Bhaskar
टूटी पुलिया से टूटते गए रिश्ते, छूटती गई जिंदगी

खड़की गांव में सोमवार शाम 4 बजे तेज बारिश हुई। गांव का नाला उफान पर आ गया। गांजा बड़गांव पढ़ने गए स्कूली बच्चे और खेतों में काम करने वाले 80 लोग नाले के उस पार फंस गए। सूचना मिलते ही हम मौके पर पहुंचे, लेकिन संसाधन नहीं थे। गांव वापस आए। ट्रैक्टर ट्रॉली और रस्सा लेकर दोबारा नाले पर पहुंचे। एक सिरा ट्रॉली को बांधा और दूसरा उस ओर फेंका। हम उफनते नाले में खड़े हो गए। एक हाथ में रस्सा और दूसरे में बच्चा, डर था कि हाथ फिसला या रस्सा छूट गया तो दोनों बह जाएंगे। ग्रामीणों की जिंदगी डर से बड़ी है, यहीं सोचकर सभी को पार लगाया।

यह जांबाज है संजय तिरोले, जिन्होंने हेमराज पटेल, रवींद्र तिरोले और राजू पटेल के साथ गांव वालों को सुरक्षित दूसरी ओर पहुंचा दिया।

नाले के उस पार एंबुलेंस में ही पड़ा रहा मरीज

बात पिछले साल बरसात की है। नाला इसी तरह उफान पर था। हरकचंद पटेल की तबीयत खराब होने पर जलगांव में भर्ती किया था। यहां आराम नहीं मिल तो वापस गांव लाए, लेकिन नाला उफान पर था और पुलिया टूटी होने से एंबुलेंस गांव तक नहीं आ पाई। मरीज को एंबुलेंस में ही वक्त गुजारना पड़ा। पानी कम नहीं हुआ तो उन्हें इंदौर लेकर गए।

जब तक पुलिया नहीं बनेगी, रिश्ता भी नहीं होगा

गांव के एक युवक ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि इसी वर्ष सिंगोट से एक रिश्ता आया था। लड़की वालों ने घर आकर कहा, हमें शादी से कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन गांव का रास्ता और पुलिया जब तक नहीं बनेगा, हम शादी नहीं करवाएंगे। यदि लड़का शादी के बाद गांव से बाहर शहर में रहेगा तो हम रिश्ता करेंगे।

कर चुके हैं चुनाव का बहिष्कार

गांव की आबादी 1000 से अधिक है। पुलिया निर्माण की मांग को लेकर विधानसभा चुनाव के दौरान ग्रामीणों ने नेताओं को गांव में घुसने नहीं दिया था। यहां बैनर लगाया था कि पुलिया नहीं तो वोट नहीं। गांव के मोंटू पटेल, अजय पटेल, रविन्द्र पटेल, तुलसीदास पटेल, शकील खान, रितेश यादव, राकेश पटेल, राजू पटेल, बनवारी गोयल ने बताया 8 से 10 बार हमने सभी ने कलेक्टर, विधायक को ज्ञापन भी दिए, लेकिन काम आज तक नहीं हो पाया।

खबरें और भी हैं...