पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX58656.460.28 %
  • NIFTY17473.650.44 %
  • GOLD(MCX 10 GM)462080.13 %
  • SILVER(MCX 1 KG)59537-0.64 %
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Khandwa
  • Journalist's Recognition Revoked But No Action Against Dr. Soni; CMHO Said If The Police Will Give In Writing, TI Said We Will Send

नवजात की खरीद-फरोख्त और ब्लेकमेलिंग:पत्रकार की अधिमान्यता निरस्ती का प्रस्ताव, डॉ. सोनी के खिलाफ एक्शन पर CMHO बोले - पुलिस लिखित में देगी तो करेंगे, TI ने कहा - हम भिजवा देते है

सावन राजपूत/खंडवा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. रेणु साेनी। - Money Bhaskar
स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. रेणु साेनी।

नाबालिक के प्रसव के बाद उसकी खरीद-फरोख्त और ब्लेकमेलिंग के मामले में सोनी अस्पताल के डॉक्टर व स्टाफ के अलावा चार पत्रकारों के खिलाफ केस दर्ज किया है। एक पत्रकार की अधिमान्यता निरस्त करने जनसंपर्क विभाग ने शासन को प्रस्ताव भेजा है तो वहीं डॉ. रेणु सोनी के विरुद्व एक्शन के मामले में CMHO ने बताया पुलिस लिखित में देगी तो करेंगे। इधर, टीआई ने कहा - हम अभी भिजवा देते हैं।

नवजात की खरीद-फरोख्त के षडयंत्र में शामिल डॉ. रेणु सोनी फरार है। उन पर मानव तस्करी समेत किशोर न्याय अधिनियम व पॉक्सो की धाराओंं में केस दर्ज है। गुरुवार को जिला न्यायालय ने उनकी अग्रिम जमानत याचिका भी निरस्त कर दी है। वह स्त्री रोग विशेषज्ञ है। आपराधिक प्रकरण दर्ज होने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने अपने स्तर से कोई कार्रवाई प्रक्रिया में नहीं ली है। न ही शासन या इंडियन मेडिकल काउंसिल को कार्रवाई के संबंध में प्रस्ताव भेजा है जबकि इसी मामले में डॉक्टर रेणु सोनी के दामाद सौरभ सोनी को अपहरण के बाद ब्लेकमेल करने वाले यूट्यूब पत्रकार देवेंद्र जायसवाल की अधिमान्यता निरस्त करने जनसंपर्क विभाग ने शासन को प्रस्ताव भेज दिया है। भोपाल जनसंपर्क विभाग के अनुसार आगामी समय में होने वाली बैठक में देवेंद्र जायसवाल की अधिमान्यता निरस्त हो जाएगी।

नवजात खरीद-फरोख्त गिरोह:डॉ. रेणु सोनी और यूट्यूब पत्रकार देवेंद्र की अग्रिम जमानत याचिका खारिज; गंभीर अपराध में फरार आरोपी पुलिस गिरफ्तारी से दूर

- इंडियन मेडिकल काउंसिल लेता है एक्शन

एक्सपर्ट के अनुसार, ऐसे मामले में स्वास्थ्य विभाग के जांच या शिकायती प्रतिवेदन के बाद इंडियन मेडिकल काउंसिल डॉक्टर की मान्यता निरस्त करने का निर्णय लेती है। काउंसिल निर्णय लेती है कि मान्यता कुछ समय के लिए निरस्त करना है या फिर हमेशा के लिए। इस पीरियड में संबंधित सरकारी डॉक्टर भी प्राइवेट प्रेक्टिस नहीं कर सकता। रही बात क्लीनिक या संबंधित अस्पताल की तो ऐसे मामले में स्थानीय प्रशासन फैसला लेता है।

खंडवा में नवजात खरीद-फरोख्त मामला:एक्सपर्ट बोले - यह अपराध मानव तस्करी से जुड़ा, जिम्मेदार डॉक्टर ने पुलिस को सूचना दी न CWC को; बढ़नी चाहिए धाराएं...

- पुलिस लिखित में देगी तो करेंगे

CMHO डॉ. डीएस चौहान का कहना है कि विभागीय स्तर पर जांच कमेटी गठित की गई थी। लेकिन डॉक्टर की मान्यता निरस्त कराने संबंधी किसी प्रकार की अनुशंसा हमारे द्वारा नहीं की गई है। हमारे पास कोई साक्ष्य नहीं है। एफआईआर के आधार पर यदि पुलिस हमें लिखित में जानकारी देती है तो हम एक्शन लेंगे।

डॉक्टर ने नवजात को बेचा:मशहूर डॉक्टर ने खुद के अस्पताल में नाबालिग का प्रसव कराया, बच्चे का ढाई लाख में किया सौदा; दामाद समेत 5 पर केस

- हम अभी भिजवा देते है

कोतवाली टीआई बीएल मंडलोई ने बताया डॉ. रेणु सोनी के संबंध में जो भी दस्तावेज स्वास्थ्य विभाग को चाहिए हम दें देंगे। एफआईआर की कॉपी हम अभी सीएमएचओ कार्यालय भिजवा देते है।

खबरें और भी हैं...